बिंज ड्रिंकिंग से पैदा होती हैं स्‍वास्‍थ्‍य संबंधी कई समस्‍याएं

एक साथ पांच या इससे ज्यादा ड्रिंक्स पीने को बिंज ड्रिंकिंग भी कहते हैं। बिंज ड्रिंकिंग का जो फॉर्मल क्राइटेरिया है उसके हिसाब से महिलाओं के लिए महीने में एक बार भी एक ही मौके पर चार से ज्यादा ड्रिंक्स और पुरुषों के लिए पांच और उससे ज्यादा ड्रिंक्स बिंज ड्रिंकिंग कहलाते हैं।
शराब शरीर को कई तरह से नुकसान पहुंचाती है। हालांकि कुछ स्टडीज यह भी कहती हैं कि लिमिटेड मात्रा में शराब लेना उतना नुकसानदायक नहीं है। लेकिन एक बार में ज्यादा शराब पीना हेल्थ को काफी नुकसान पहुंचाता है।
वैज्ञानिकों की मानें तो यंग एज में ही ज्यादा शराब पीने से आगे चलकर कई तरह की सॉयकोलॉजिकल समस्याएं हो सकती हैं। वहीं बिंज ड्रिंकिंग से तुरंत फैसले लेने की क्षमता में कमी, इमोशनल कंट्रोल न होना और एक्सिडेंट जैसी समस्याओं का खतरा बढ़ जाता है।
सबसे ज्यादा समस्या तब होती है जब लोगों को बिंज ड्रिंकिंग की आदत पड़ जाती है। नियमित रूप से बिंज ड्रिंकिंग को हेवी ड्रिंकिंग की कैटिगरी में रखा जा सकता है।
कई लोगों को लगता है कि वे रोजाना नहीं पीते बल्कि वीकेंड्स पर पीते हैं तो उन्हें शराबी की कैटिगरी में नहीं रखना चाहिए लेकिन हफ्ते में एक बार भी ज्यादा ड्रिंक करे तो इसे बिंज ड्रिंकिंग की ही कैटिगरी में रखेंगे।
-एजेंसियां

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Translate »