स्टील पर ट्रंप कार्ड से दुनिया के कई देश नाराज

अमरीकी राष्ट्रपति डोनल्ड ट्रंप ने ट्रेड वार में एक और मोर्चा खोल दिया है. ट्रंप ने स्टील और एल्यूमीनियम पर इंपोर्ट ड्यूटी में बढ़ोत्तरी का ऐलान किया है. मतलब ये कि अमरीकी कंपनियां अब विदेशों के सस्ते स्टील का फ़ायदा नहीं उठा पाएंगी.
ट्रंप ने स्टील पर 25 प्रतिशत और एल्यूमीनियम पर 10 प्रतिशत की इंपोर्ट ड्यूटी लगा दी है.
ट्रंप के इस कदम की कई अमरीकी रिपब्लिकन सांसदों समेत यूरोपियन यूनियन, कनाडा और मैक्सिको ने आलोचना की है.
ज़ाहिर है ट्रंप के इस क़दम से प्रभावित देश भी उन्हें ‘जैसे को तैसा’ सबक सिखाने की तैयारी में हैं और अमरीका से आयात होने वाले स्लीपिंग बैग्स, बॉल प्वाइंट पैन तक पर ड्यूटी बढ़ाने की सोच रहे हैं.
फ्रांस के राष्ट्रपति इमेनुएल मैक्रों ने ट्रंप को फ़ोन किया और कहा कि उनका ये क़दम ‘अवैध’ है. मैक्रों ने कहा कि यूरोपियन यूनियन बेहद मजबूती से इसका जवाब देगी.
ट्रंप ने भी अपने क़दम को सही ठहराने के लिए तर्क दिए हैं. उनका कहना है कि अमरीकी स्टील और एल्यूमीनियम उत्पादक राष्ट्रीय सुरक्षा के लिए अहम हैं और विदेश से मिलने वाली स्टील सप्लाई से अमरीका को ख़तरा है.
समाचार एजेंसी पीटीआई के मुताबिक स्टील और एल्यूमीनियम पर इंपोर्ट ड्यूटी लगाने से भारतीय कंपनियों को भी घाटा तो होगा, लेकिन चीन और ब्राज़ील जैसे देशों के मुक़ाबले ये बहुत कम होगा. अमरीका को एल्यूमीनियम और स्टील के कुल निर्यात में भारत की हिस्सेदारी तकरीबन 3 फ़ीसदी है.
भारत का अमरीका को स्टील निर्यात उतार-चढ़ाव भरा रहा है, लेकिन एल्यूमीनियम सेक्टर पर निश्चित तौर पर इसका असर पड़ेगा.
पिछले कुछ सालों के दौरान अमरीका को एल्यूमीनियम का निर्यात लगातार बढ़ा है. 2013-14 में एल्यूमीनियम का निर्यात 201 मिलियन डॉलर रहा, जो 2014-15 में बढ़ कर 306 मिलियन डॉलर पर पहुंच गया. हालांकि 2015-16 में यह मामूली घट कर 296 मिलियन डॉलर पर रहा और 2016-17 में बढ़ कर 350 मिलियन डॉलर पर पहुंच गया. एल्यूमीनियम पर अमरीका के 10 फीसदी आयात शुल्क के ऐलान से निर्यात में भी कमी आएगी.
कनाडा, ब्रिटेन भी विरोध में
ट्रंप के इस तर्क में कनाडा को कोई दम नहीं दिखता. कनाडा के प्रधानमंत्री जस्टिन ट्रूडो ने कहा, “कनाडा किसी भी तरह से अमरीका की राष्ट्रीय सुरक्षा को ख़तरा होगा, ये बात कतई गले नहीं उतरती.”
कनाडा ने कहा है कि वह भी अमरीका से आयात होने वाले करीब 1300 करोड़ डॉलर के उत्पादों पर एक जुलाई से 25 फ़ीसदी इंपोर्ट ड्यूटी लगाएगा. इन उत्पादों में अमरीकी स्टील के साथ व्हिस्की, कॉफ़ी और दूसरी उपभोक्ता वस्तुएं शामिल हैं.
कनाडा, मैक्सिको और यूरोपियन यूनियन अमरीका को स्टील सप्लाई करने वाले देशों में बड़े हिस्सेदार हैं. साल 2017 में अमरीका को होने वाले स्टील और एल्यूमीनियम के कुल 4800 करोड़ डॉलर के एक्सपोर्ट में इन देशों की तकरीबन 50 फ़ीसदी हिस्सेदारी थी.
ब्रिटेन ने कहा है कि ट्रंप के इस क़दम का ब्रिटेन के स्टील सेक्टर पर तो असर पड़ेगा ही, अमरीकी अर्थव्यवस्था भी इससे अछूती नहीं रहेगी.
ब्रिटेन में स्टील उत्पादकों की संस्था का कहना है कि अभी कुल स्टील निर्यात का 7 फ़ीसदी अमरीका को होता है, लेकिन ट्रंप के इस कदम से निर्यात में कमी आएगी और कुछ नौकरियों पर इसकी गाज भी गिर सकती है.
-एजेंसी

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Translate »