हाजी मस्‍तान से मिलते थे मुरली देवड़ा और सुशील कुमार शिंदे जैसे कई कांग्रेसी नेता

मुंबई। शिवसेना सांसद संजय राउत के गैंगस्टर करीम लाला से पूर्व प्रधानमंत्री इंदिरा गांधी के मिलने को लेकर बयान देकर पैदा हुआ विवाद अभी थमा नहीं है।
इसी बीच एक और माफिया डॉन हाजी मस्तान के गोद लिए बेटे सुंदर शेखर ने भी बयान दे दिया है। शेखर का कहना है कि मुरली देवड़ा और सुशील कुमार शिंदे जैसे कांग्रेस के कई नेता उनके ‘बाबा’ से मिलने आते थे। उन्होंने इस बात पर हैरानी जताई कि संजय राउत ने अपना बयान वापस क्यों लिया। उधर मस्तान का परिवार पहले इस बात को खारिज कर चुका है कि शेखर को मस्तान ने गोद लिया है।
‘पक्के कांग्रेसी थे बाबा’
शेखर ने कहा, ‘बाबा पक्के कांग्रेसी थे। मुझे याद है कि सीनियर कांग्रेस नेता जैसे वसंतदादा पाटिल, मुरली देवड़ा और सुशीलकुमार शिंदे उनसे मिलते थे।’
उन्होंने कहा, ‘छोटे नेता हाजी मुस्तान से सेंट्रल होटल में मिलते थे जबकि बड़े नेता साउथ बॉम्बे के फाइव स्टार होटल में मिलते थे।’
उन्होंने बताया कि कभी-कभी वह दिल्ली भी जाते थे। शेखर ने दावा किया कि 1984 तक हाजी मस्तान या मस्तान मिर्जा कांग्रेस में थे लेकिन अक्टूबर 1984 में इंदिरा गांधी की हत्या के बाद ‘बाबा’ ने कांग्रेस छोड़ दी और जोगिंदर कावड़े के साथ 1985 में दलित मुस्लिम सुरक्षा महासंघ की नींव रखी।
‘अंदर बैठक होती थी, बाहर रहते थे आठवले’
शेखर ने कहा, ‘मुझे याद है कि रामदास आठवले (आरपीआई नेता) कमरे के बाहर खड़े रहते थे जब बाबा और कावड़े की बैठक होती थी।’
उन्होंने कहा कि मुस्लिमों और दलितों ने साथ नहीं दिया और उन्होंने अपनी पार्टी का नाम भारतीय अल्पसंख्य सुरक्षा महासंघ रख लिया जिसका ऑफिस जेजे अस्पताल के पास है। मस्तान ने 1985 में लोक सभा चुनाव में दलित मुस्लिम सुरक्षा महासंघ के टिकट पर चुनाव लड़ने की कोशिश की लेकिन मुरली देवड़ा के समर्थन में मैदान छोड़ दिया।
स्टाइल आइकॉन
तमिलनाडु के मस्तान मिर्जा, करीम लाला और वर्दराजन मुदलियर 60 से लेकर 80 के दशक के बीच तस्करी और दूसरे गिरोह चलाते थे। मिर्जा बाद में फिल्म फाइनैंसिंग और रियल एस्टेट में चला गया। अपने लाइफस्टाइल, सफेद कपड़ों, सफेद जूतों, सफेद मर्सेडीज, महंगी सोने की घड़ियों के चलते स्टाइल आइकॉन की तरह देखा जाता था। कई नेताओं और फिल्मी हस्तियों के साथ उसका उठना बैठना था।
-एजेंसियां

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *