मुश्किल में मनमोहन, PAC ने स्‍वीकार की CWG की विवादास्‍पद रिपोर्ट

Manmohan In difficult, PAC accept CWG's controversial report
मुश्किल में मनमोहन, PAC ने स्‍वीकार की CWG की विवादास्‍पद रिपोर्ट

नई दिल्ली। पूर्व प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह की मुश्किल आने वाले समय में बढ़ सकती है। संसद की पब्लिक अकाउंट्स कमेटी PAC ने आखिरकार 2010 के कॉमनवेल्थ खेलों पर आधारित राजनीतिक रूप से विवादास्पद रिपोर्ट को स्वीकार कर लिया है। इस रिपोर्ट में पूर्व प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह के दफ्तर PMO के ढुलमुल रवैये की आलोचना की गई थी।
रिपोर्ट में कांग्रेस नेता सुरेश कलमाडी को खेलों की ऑर्गनाइजिंग कमेटी का अध्यक्ष बनाए जाने को लेकर कड़े सवाल थे। साथ ही आयोजन में हो रहे घोटालों की अनदेखी के मुद्दे पर अपनी जिम्मेदारी से पल्ला झाड़ने पर पीएम की दफ्तर के रवैये की भी निंदा की गई थी। इसके अलावा पूर्व प्रधानमंत्री के लिए कुछ और मुश्किल हालात भी हो सकते हैं।
PAC ने पीएमओ के दफ्तर से मिले उस जवाब को भी खारिज कर दिया जिसमें कहा गया था कि मंत्री समूह की बैठक का ब्यौरा खेल मंत्रालय दे सकता है।
दरअसल, 14 जनवरी 2005 को तत्कालीन प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह की अध्यक्षता में हुई मंत्री समूह की बैठक का लिखित ब्योरा न दिए जाने का कारण पूछा गया था। इसके जवाब में प्रधानमंत्री दफ्तर ने कहा था कि बैठक का लिखित ब्यौरा नहीं दिए जाने की वजह खेल मंत्रालय ही बता सकता है।
रिपोर्ट में कहा गया है, ‘जब राष्ट्रीय महत्व के अहम मुद्दों को लेकर प्रधानमंत्री के निर्देशों की बात आती है तो पीएमओ को अपनी जिम्मेदारी दूसरों पर डालने के बजाय उस पर नजर रखना सुनिश्चित करना चाहिए था।
रिपोर्ट में कड़े शब्दों का इस्तेमाल करते हुए कहा गया है, ‘पीएमओ द्वारा यह कहा जाना कि वजह खेल मंत्रालय ही बेहतर बता सकता है, गोलमोल जवाब देना है।’
-एजेंसी

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *