मणिशंकर रिटर्न: फिर बताया मोदी को ‘नीच किस्म का आदमी’

नई दिल्‍ली। लोकसभा चुनाव खत्म होने से ऐन पहले कांग्रेस नेता मणिशंकर अय्यर एकबार फिर ‘नीच’ बयान के साथ लौटे हैं।
दरअसल, अय्यर ने 2017 में पीएम नरेंद्र मोदी के बारे में दिए गए अपने विवादित बयान ‘नीच किस्म का आदमी’ को सही ठहराते हुए एक लेख लिखा है।
गुजरात विधानसभा चुनाव के दौरान अय्यर के दिए इस बयान पर काफी बवाल मचा था और बाद में कांग्रेस नेता को माफी मांगनी पड़ी थी।
इस बीच कांग्रेस ने अय्यर के बयान से पल्ला झाड़ लिया है और उनके लेख को निजी विचार बताया है। इधर, बीजेपी ने मुद्दे को लपकते हुए कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी को घेर लिया है।
2017 में मीडिया से बात करते हुए मणिशंकर अय्यर ने पीएम मोदी के लिए ‘नीच किस्‍म का आदमी’ शब्‍द का प्रयोग किया था। उस समय इसकी बीजेपी समेत कई दलों ने तीखी आलोचना की थी और मणिशंकर अय्यर ने इसके लिए माफी भी मांगी थी लेकिन हाल ही में छपे एक लेख में उन्‍होंने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के हाल की रैलियों के बयानों का हवाला देते हुए कहा है, ‘याद है 2017 में मैंने मोदी को क्‍या कहा था? क्‍या मैंने सही भविष्‍यवाणी नहीं की थी?’ उधर, कांग्रेस ने अय्यर बयान से पाल्ला झाड़ते हुए कहा कि गलत बयान देने वालों पर अध्यक्ष राहुल गांधी कार्यवाही करते हैं। पार्टी नेता पवन खेड़ा ने कहा, ‘पीएम मोदी ने संवाद का स्तर नीचे गिराया है।’
बीजेपी ने हल्ला बोला
अय्यर के नीच बयान को सही ठहराने पर बीजेपी हमलावर हो गई है। पार्टी नेता संबित पात्रा ने ट्वीट कर कांग्रेस अध्यक्ष राहुल को भी निशाने पर लिया। ‘2019 के लोकसभा चुनाव में कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी की ‘प्यार की राजनीति’ में गांधी परिवार के और एक ‘मणि’ ने मोदी जी पर दिए गए अपने पूर्व के ‘नीच बयान’ को सही ठहराते हुए कुछ और योगदान किया है।’
मोदी की शैक्षिक पृष्‍ठभूमि का भी जिक्र किया
अपने इस लेख में उन्‍होंने मोदी के रैलियों और इंटरव्‍यू में दिए गए बयानों का जिक्र किया है। मोदी की शैक्षिक पृष्‍ठभूमि का जिक्र करते हुए अय्यर ने भगवान गणेश की ‘प्‍लास्टिक सर्जरी’ और उड़न खटोलों को प्राचीन विमान बताने वाले उनके बयानों को ‘अज्ञानता भरे दावे’ कहा। इसके अलावा अय्यर ने उस इंटरव्‍यू का जिक्र भी किया जिसमें मोदी ने बालाकोट हमले के समय बादलों की आड़ का फायदा लेने की बात कही थी।
अपने लेख में अय्यर ने मोदी के उस बयान की भी आलोचना की, जिसमें मोदी ने कहा था कि ‘दिसंबर 1987 में राजीव गांधी आईएनएस विराट को पर्सनल टैक्‍सी की तरह लक्षद्वीप ले गए थे।’ इसी के बाद अय्यर ने लिखा है- ‘याद है 2017 में मैंने मोदी के बारे में क्‍या कहा था? क्‍या मैंने सही भविष्‍यवाणी नहीं की थी?’
2017 में अय्यर ने क्या कहा था
दरअसल, दिसंबर 2017 में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने दिल्ली स्थित इंटरनेशनल बाबा साहेब आंबेडकर सेंटर का उद्घाटन करते हुए कांग्रेस पार्टी और उपाध्यक्ष राहुल गांधी पर इशारों में जमकर निशाना साधा था और कहा था कांग्रेस ने एक परिवार को बढ़ाने के लिए बाबा साहेब के योगदान को दबाया। पीएम के इस बयान से नाराज कांग्रेस नेता मणिशंकर अय्यर आपत्तिजनक टिप्पणी की थी। उन्होंने मोदी को ‘नीच’ और ‘असभ्य’ तक कह डाला था। अय्यर ने कहा, ‘मुझको लगता है कि यह बहुत नीच किस्म का आदमी है। इसमें कोई सभ्यता नहीं है और ऐसे मौके पर इस किस्म की गंदी राजनीति करने की क्या आवश्यकता है?’
मणिशंकर के इस लेख के बाद सोशल मीडिया पर लोग जमकर उनकी खिंचाई कर रहे हैं। ज़्यादातर लोगों का कहना है कि एक बार फिर ऐसा बयान देकर मणिशंकर अय्यर ने साबित कर दिया कि वो बीजेपी के स्टार कैंपेनर हैं।
यूज़र्स का कहना है कि अय्यर के इस तरह के बयान से बीजेपी से ज़्यादा और किसी को खुशी नहीं होगी।
लोगों का ये भी कहना है कि यह मणिशंकर अय्यर ही थे जो अब तक सैम पित्रोदा का नकाब पहने थे और चुनाव ख़त्म होते-होते वो अपने असली रूप में आ गए हैं।
-एजेंसियां

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Translate »