कांग्रेस पर भारी पड़ गया मणिशंकर अय्यर का बयान

नई दिल्ली। कांग्रेस उपाध्यक्ष राहुल गांधी के अध्यक्ष पद का पर्चा भरने के बाद जब कांग्रेस नेता मणिशंकर अय्यर ने मुगलों का उदाहरण देकर बयान दिया तो शायद उन्हें पता भी नहीं होगा कि उसके कुछ पल बाद ही यह बयान इतना चर्चा में आएगा और पीएम मोदी इस बयान से ही कांग्रेस के वंशवाद पर निशाना साधेंगे।
मणिशंकर अय्यर ने मुगलों का उदाहरण राहुल का पक्ष लेते हुए दिया था लेकिन मोदी के भाषण ने उनका दांव ही पलट कर रख दिया। हालांकि, अब मणिशंकर अय्यर ने अपने बयान का बचाव किया है।
दरअसल, राहुल गांधी का निर्विरोध तौर पर पार्टी अध्यक्ष चुने जाने को लेकर बीजेपी लगातार कांग्रेस को वंशवाद के आरोपों में घेर रही थी। बीजेपी के इन आरोपों पर पलटवार करते हुए अय्यर ने कहा, ‘जब शाहजहां ने जहांगीर की जगह ली थी क्या तब चुनाव हुए थे? जब औरंगजेब ने शाहजहां की जगह ली तब चुनाव हुए? यह सब जानते हैं कि जो बादशाह है उसकी संतान को सत्ता मिलेगी।’ इस बयान के कुछ पल बाद ही जब पीएम मोदी ने गुजरात में चुनावी रैली की तो मुगलकाल के उदाहरण के जरिए पार्टी को औरंगजेब काल का बताया। हालांकि मणिशंकर अय्यर बाद में सफाई दी, ‘दोनों चुनाव की तुलना न करें, सबको पता था कि जहांगीर के बाद शाहजहां सत्ता संभालेंगे लेकिन यहां हर कोई राहुल गांधी के खिलाफ चुनाव लड़ने को आजाद है। यह पूरी तरह लोकतांत्रिक प्रक्रिया है।’ हालांकि, तब तक मणिशंकर अय्यर अपने बयान की वजह से विवादों में घिर चुके थे।
धरमपुर रैली में पीएम ने इसी बयान के जरिए कहा कि ‘कांग्रेस के वरिष्ठ नेता खुद मानते हैं कि यह पार्टी नहीं बल्कि कुनबा है। कांग्रेस का औरंगजेब राज उन्हीं को मुबारक।’
-एजेंसी