Maneka Gandhi ने कहा- देश में ऐसे और भी शेल्टर होम, दो साल से सांसदों ने रिपोर्ट तक नहीं दी

Maneka Gandhi ने कहा, सरकारें उन्हें सिर्फ पैसा देती रहीं, दो साल से सांसदों ने रिपोर्ट नहीं भेजी

नई दिल्‍ली। बिहार के मुजफ्फरपुर बालिका गृह में बच्चियों का यौन शोषण होने और उत्तरप्रदेश के देवरिया के एक शेल्टर होम की संदिग्ध भूमिका सामने आने पर केंद्रीय महिला और बाल कल्याण मंत्री Maneka Gandhi ने दुख जताया।

उन्होंने सोमवार को कहा कि सालों से शेल्टर होम्स की तरफ कोई ध्यान नहीं दिया गया। सरकारें उन्हें सिर्फ पैसा देती रहीं। दो साल से सांसदों ने रिपोर्ट नहीं भेजी। मुझे पता है कि देश में ऐसी बहुत-सी जगहें हैं, जो सामने आएंगी।

केंद्रीय मंत्री ने इस समस्या से निपटने के लिए एक-एक हजार बच्चों की क्षमता वाले बड़े शेल्टर होम बनाने और यहां सिर्फ महिला कर्मचारियों की तैनाती करने का सुझाव दिया।

मेनका ने कहा, ‘‘मुजफ्फरपुर और देवरिया में जो हुआ, उससे दुखी और चकित हूं। दो साल से सांसदों को चिट्ठी लिखकर गुजारिश कर रही हूं कि आप अपने क्षेत्र में बच्चों और महिलाओं से जुड़ी संस्थाओं में जाकर देखें। इनकी रिपोर्ट तैयार कर मंत्रालय को भेजें। कुछ लोग सिर्फ देखने गए। किसी ने यह भी नहीं बताया कि अंदर हो क्या रहा है? कोई सांसद इन जगहों पर नहीं गया। बाद में शेल्टर होम्स के ऑडिट के लिए हमने एनजीओ को भेजा।”

बालिका गृह से जुड़े दो मामले

उत्तरप्रदेश के देवरिया का बालिका गृह जांच के घेरे में है। बताया जा रहा है कि यहां की लड़कियों को रात में बाहर भेजा जाता था। सुबह वे रोते हुए लौटती थीं। प्रशासन ने बालिका गृह से 24 लड़कियों को मुक्त कराया। इसकी संचालिका और बेटे को गिरफ्तार किया गया है। वहीं, बिहार के मुजफ्फरपुर के बालिका गृह में यौन शोषण का मामला टाटा इंस्टीट्यूट ऑफ सोशल साइंस की ‘कोशिश’ टीम की ऑडिट रिपोर्ट से सामने आया था। मेडिकल जांच में 34 बच्चियों के यौन शोषण की पुष्टि हुई।
-एजेंसी

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Translate »