Cannes Film Festival में पिंजरे में बंद होकर मल्लिका शेरावत ने दिया अहम संदेश

नई दिल्ली। बच्चों के साथ होने वाले अत्याचारों को बंद करने के खिलाफ Cannes Film Festival में पिंजरे में बंद होकर मल्लिका शेरावत ने अहम संदेश दिया।

सोशल मीडिया पर मल्लिका ने एक वीडियो पोस्ट किया है, जिसमें वह एक पिंजरे पर बंद दिखाई दे रही हैं, लेकिन यह वीडियो में मल्लिका ने दुनियाभर के लोगों को संदेश भी दिया है।

 

मल्लिका शेरावत का पिंजरे में बंद होने का मकसद बच्चों के साथ होने वाले अत्याचारों को बंद करने के खिलाफ है। उन्होंने #LockMeUp कैंपेन का हिस्सा बनकर ‘#ChildTrafficking and #Prostitution’ के खिलाफ आवाज उठाई है। इस मुद्दे पर दुनियाभर के लोगों का ध्यान खींचने का इससे बेहतर मौका नहीं हो सकता, मल्लिका ने खुद को पिंजरे में बंद करके ऐसी तस्वीर खिंचाई। बता दें कि मल्लिका ‘फ्री अ गर्ल इंडिया’ इंटरनेशनल एनजीओ की ब्रांड अंबेसडर भी हैं, जो मानव तस्करी और बच्चों के साथ होने वाले यौन शोषण जैसे अपराधों के खिलाफ आवाज उठाते हैं।

मल्लिका ने कान में खुद को 12X8 फीट के छोटी सी जगह में पिंजरे में बंद किया और ‘Free A Girl’ कैंपेन से जुड़ने के लिए अपील भी की, हैशटैग के साथ लोग इस बारे में सोशल मीडिया पर अपने व्यू भी दे रहे हैं।

मल्लिका ने कहा, ”कान में ये मेरा 9वां साल है और यह फेस्टिवल भारत में ही नहीं, बल्कि दुनिया भर में बाल वेश्यावृत्ति के मुद्दे को उठाने के लिए सबसे सफल मंचों में से एक है। एक पिंजरे में बंद हो कर मैं इस बात की कल्पना करना चाहती थी कि कैसे युवा लड़कियों की तस्करी की जा रही हैं और कैसे वे 12×8 फुट के कमरे में फंस गई हैं।”

मल्लिका ने आगे कहा, ”इन निर्दोष पीड़ितों को बिना किसी सहायता के जीना पड़ता है। किसी भी बदलाव की उम्मीद के बिना एक महिला को हर मिनट दुर्व्यवहार का सामना करना पड़ता है तो मैंने अपने हिस्से की जिम्मेदारी निभाने और इस मुद्दे पर जागरूकता फैलाने का निर्णय लिया। Cannes Film Festival में मल्लिका ने कहा  कि ये ऐसा मुद्दा है, जिस पर जल्द से जल्द खत्म किए जाने की जरूरत है।”
-एजेंसी

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Translate »