मलेशियाई मंत्री Kulasegaran ने कहा, जाकिर नाइक भगोड़ा, उसे भारत भेजो

कुआलालम्पुर। मलेशिया के मानव संसाधन मंत्री Kulasegaran के मुताबिक, जाकिर उनके देश में नफरत फैलाने की साजिश रच रहा, जाकिर नाइक भगोड़ा, उसे भारत भेजो। Kulasegaran ने कहा क‍ि भारत में जाकिर पर मनी लॉन्ड्रिंग और आतंकवाद बढ़ावा देने के आरोप, तीन साल पहले देश से भागा था।  Zakir Naik के भारत प्रत्यर्पण को लेकर मलेशियाई कैबिनेट की आज अहम बैठक होने जा रही है, जिसमें Zakir Naik के प्रत्ययर्पण पर न‍िर्णय हो सकता है।

बुधवार को जारी बयान में एम Kulasegaran ने कहा कि जाकिर नाइक एक बाहरी व्यक्ति है, जो एक भगोड़ा है और उसे मलेशियाई इतिहास की बहुत कम जानकारी है, इसलिए उसे मलेशियाई लोगों को नीचा दिखाने जैसा विशेषाधिकार नहीं दिया जाना चाहिए। उन्होंने कहा कि जाकिर नाइक का यह बयान किसी भी तरह से मलयेशिया के स्थायी निवासी होने के पैमाने पर खरा नहीं उतरता है। इस मुद्दे को अगली कैबिनेट बैठक में उठाया जाएगा।

हाल ही में जाकिर नाइक ने बयान दिया था कि मलयेशिया में रहने वाले हिंदू मलयेशियाई प्रधानमंत्री महातिर मोहम्मद से ज्यादा नरेंद्र मोदी के वफादार हैं।

दरअसल मलयेशिया में हिंदुओं को लेकर दिए गए बयान पर फंसे जाकिर नाइक को लेकर मंगलवार को मंत्री Kulasegaran ने एक पत्र जारी किया । इसमें कहा- जाकिर मलेशिया के कर दाताओं के पैसे पर यहां मौज कर रहा है। उस पर गंभीर आरोप हैं। वो मलेशिया में सामुदायिक घृणा फैलाने की साजिश रच रहा है। उसे भारत को सौंप देना चाहिए। वहां वो अपने ऊपर लगे आरोपों का सामना करेगा। मलेशिया के प्रधानमंत्री महातिर मोहम्मद पहले नाइक के प्रत्यर्पण से इनकार कर चुके हैं लेकिन अब इस इस्लामी धर्मगुरू का वहां विरोध तेज हो गया है।

स्थायी नागरिकता का हकदार नहीं Zakir Naik
कुलसेगरन ने कहा- जाकिर जैसे लोग हमारे विविधता वाली संस्कृति में रहने के हकदार नहीं हैं। उसे मलेशिया की स्थायी नागरिकता कतई नहीं दी जानी चाहिए। नाइक ने खुद पर लगे आरोपों को गलत बताया है। उसने कहा कि सियासी वजहों से इस तरह के आरोप लगाए जा रहे हैं। दूसरी तरफ, मलेशियाई न्यूज एजेंसी ने पीएम महातिर मोहम्मद का बयान जारी किया। इसमें कहा गया है कि जाकिर को भारत के हवाले नहीं किया जा सकता क्योंकि वहां उसकी जान को खतरा हो सकता है। अगर कोई दूसरा देश उसको शरण देना चाहता है तो हम तैयार हैं।
– एजेंसी

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Translate »