बच्चों के लिए घातक सिद्ध हो सकती है Malaria की बीमारी

Malaria बच्चों में एक गंभीर बीमारी हो सकती है। खासकर 5-6 साल से छोटे बच्चों के लिए यह घातक सिद्ध हो सकती है लेकिन एक ऐसा ड्रग या दवाई है जिसकी मदद से बच्चों में Malaria के मामलों को 20 पर्सेंट तक कम किया जा सकता है। हाल ही में किए गए एक ट्रायल में यह बात सामने आई।
इस ड्रग का नाम है आइवरमेक्टिन। ट्रायल में पाया गया कि अगर आइवरमैक्टिन ड्रग (ivermectin) के डोज़ को Malaria के सीज़न के दौरान हर तीन हफ्ते में एक बार बॉडी में इंजेक्ट किया जाए तो इससे पांच साल या इससे कम उम्र के बच्चों में मलेरिया के मामलों को काफी कम किया जा सकता है।
द लैंसेट जर्नल में प्रकाशित इस ट्रायल रिपोर्ट में कोलराडो स्टेट यूनिवर्सिटी के शोधकर्ता ब्रायन डी फॉय ने कहा, ‘आइवरमैक्टिन मलेरिया को पनपने नहीं देता और यह व्यक्ति के खून को इस कदर घातक बना देता है कि अगर मच्छर उस व्यक्ति को काटते भी हैं तो वे खुद ही मर जाते हैं। इसकी वजह से अन्य लोगों में भी इंफेक्शन फैलने का खतरा कम रहता है।’
आमतौर पर आइवरमैक्टिन का इस्तेमाल रिवर ब्लाइंडनेस से लेकर स्केबीज़ यानी दाद-खाज/खुजली से होने वाले पैरासाइट इंफेक्शन का इलाज करने में किया जाता है। ब्रायन ने आगे कहा कि मलेरिया की रोकथाम करने वाले अन्य ऐंटीमलेरियल ड्रग्स और कीटनाशकों की तुलना में आइवरमैक्टिन ज़्यादा प्रभावशाली तरीके से काम करता है। इसी खासियत की वजह से इसे अन्य दवाइयों के साथ बीमारी से जुड़े हर तरह के लक्षण को दूर करने के लिए इस्तेमाल किया जा सकता है।
इस स्टडी के लिए शोधकर्ताओं की टीम ने 18 सप्ताह के परीक्षण के दौरान मलेरिया को कंट्रोल करने के लिए मास आइवरमैक्टिन की प्रक्रिया को दोहराया। स्टडी में 2,700 लोगों को शामिल किया गया, जिनमें पश्चिमी अफ्रीका के बुर्किना फासो के 590 बच्चों को भी शामिल किया गया। 2000 के बाद से वैश्विक स्तर पर मलेरिया से होने वाली मौतों में 48 फीसदी गिरावट आई है। हालांकि इस प्रगति में आर्टेमिसिनिन ड्रग के खिलाफ बढ़ते प्रतिरोध के कारण रुकावट आ रही है। यह ड्रग आइवरमैक्टिन की सफलता का अभिन्न अंग रहा है।
-एजेंसियां

50% LikesVS
50% Dislikes

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *