मेक इन इंडिया ऐप इनोवेशन चैलेंज अनाउंस, आप ले सकते हैं हिस्‍सा

नई दिल्‍ली। भारत में बनाए गए ऐप्स को बढ़ावा देने के लिए सरकार की ओर से मेक इन इंडिया ऐप इनोवेशन चैलेंज अनाउंस किया गया है। इस चैलेंज का मकसद भारतीय डेवेलपर्स औऱ स्टार्टअप्स को बढ़ावा देना है और भारत में बनाए गए ऐप्स का एक इकोसिस्टम तैयार करना है। याद दिला दें कि बीते दिनों भारत सरकार की ओर से 59 चाइनीज ऐप्स पर बैन लगाया गया है।
भारत सरकार की ओर से बीते दिनों राष्ट्रीय सुरक्षा औऱ यूजर्स की प्राइवेसी को प्राथमिकता देते हुए 59 चाइनीज ऐप्स पर बैन लगाया गया है। अब केंद्र सरकार मेक इन इंडिया ऐप इनोवेशन चैलेंज लेकर आई है। इस चैलेंज का मकसद लोकल ऐप डेवेलपर्स को बढ़ावा देना और पूरा इंडियन ऐप इकोसिस्टम तैयार करना है। भारतीय जनता पार्टी के ऑफिशल ट्विटर हैंडल से इसकी जानकारी देते हुए एक फोटो पोस्ट किया गया है।
ऐप इनोवेशन चैलेंज हाल ही में अनाउंस किया गया है और इसमें भारत के स्टार्टअप और ऐप डेवेलपर्स से वर्ल्ड-क्लास ऐप्स बनाने को कहा गया है। केंद्र सरकार मेन इन इंडिया और आत्मनिर्भर भारत अभियान के तहत ऐसे ऐप डेवेलपर्स को बढ़ावा भी दे रही है। अगर आप भी एक ऐप डेवेलपर हैं या स्टार्टअप के साथ काम कर रहे हैं तो नया ऐप तैयार कर इस चैलेंज का हिस्सा बन सकते हैं।
आठ कैटिगरी में चैलेंज
पिछले सप्ताह ऐप इनोवेशन चैलेंज अलग-अलग आठ कैटिगरीज में अनाउंस किया गया था। इनमें हेल्थ एंड वेलनेस, बिजनेस-एग्रीटेक और फिनटेक, न्यूज़, गेम्स, ऑफिस प्रोडक्टिविटी एंड वर्क फ्रॉम होम, सोशल नेटवर्किंग, ई-लर्निंग और एंटरटेनमेंट शामिल हैं। लोकल स्टार्टअप और डिवेलपर्स इस चैलेंज में पार्टिसिपेट करने और बाकी डीटेल्स के लिए innovate.mygov.in पर जा सकते हैं।
भारतीय ऐप हुए वायरल
ऐप सबमिट करने की लास्ट डेट 18 जुलाई, 2020 रखी गई है। 59 चाइनीज ऐप्स को बैन करने के बाद से ही भारत में बने ऐप्स तेजी से वायरल हो रहे हैं और बाकी ऐप्स के लिए भी यूजर्स विकल्प तलाश रहे हैं। ऐसे में मित्रों और चिंगारी जैसे शॉर्ट विडियो शेयरिंग ऐप भी पॉप्युलर हुए हैं। बैन किए गए ऐप्स जैसे फीचर्स ऑफर करने वाले इंडियन ऐप्स अब तेजी से डाउनलोड किए जा रहे हैं।
-एजेंसियां

50% LikesVS
50% Dislikes

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *