Aurangabad में पत्नियों से छुटकारा पाने को पतियों ने की वट पूजा

औरंगाबाद। Aurangabad में पत्नियों से छुटकारा पाने को पतियों ने वट वृक्ष की उल्‍टे फेरे लेते हुए मौली बांधकर पूजा करते हुए कहा कि हमें 7 जन्म तो क्या सात सेकंड के लिए नहीं चाहिए ऐसी पत्‍नी।

महाराष्ट्र की महिलाओं ने वट पूर्णिमा पर जहां अपने पतियों की लंबी आयु के लिए दुआ मांगी वहीं पुरुषों के एक समूह ने पत्नियों से छुटकारा की दुआएं मांगीं।

बताया जाता है कि ये पुरुष अपनी पत्नियों से पीड़ित हैं। वट सावित्री पूजा के अवसर पर कुछ पुरुषों ने पीपल के पेड़ के चारों तरफ उल्टी दिशा में धागा बांधकर मन्नत मांगी की कि ऐसी पत्नियां सात जन्म तो क्या सात सेकंड के लिए भी नहीं चाहिए।

गौरतलब है कि वट पूर्णिमा को वट सावित्री के नाम से भी जाना जाता है। यह एक ऐसा पर्व है जहां शादीशुदा महिलाएं बरगद के पेड़ के चारों तरफ धागा बांधकर अगले सात जन्मों तक अपने पति का साथ मांगती हैं। इस दिन हिंदू महिलाएं पूरे दिन उपवास रखती हैं। यह पर्व सावित्री और सत्यवान की कथा पर आधारित है जहां सावित्री ने मृत्यु देवता यम से अपने पति सत्यवान का जीवन वापस हासिल कर लिया था।

पत्नी पीड़ित पुरुष संगठन के सदस्यों ने वालुज इलाके में इस पर्व को आज दूसरे तरीके से मनाया। ये पुरुष अपनी पत्नियों से पीड़ित होने का दावा करते हैं। उन्होंने पीपल के पेड़ पर उल्टी दिशा में धागा बांधकर जाप किया, ‘‘अगले सात जन्मों तक ऐसी पत्नी मत देना।’’ संगठन के सदस्य तुषार वाखरे ने कहा, ‘‘हमारी पत्नियां कानूनी प्रावधानाओं का इस्तेमाल कर हमारा उत्पीड़न करती हैं। उन्होंने हमें इतनी दिक्कतें दी हैं कि हम उनके साथ सात सेकंड भी नहीं रहना चाहते, सात जन्म की बात ही छोड़ दीजिए।’’

संगठन के संस्थापक भरत फुलवारे और अन्य सदस्यों ने भादंसं की धारा 498-ए, 354 और घरेलू हिंसा कानून के दुरुपयोग को लेकर बैनर दिखाए। एक अन्य सदस्य ने कहा कि उनकी पत्नी ने उनके खिलाफ पुलिस में मामले दर्ज कराए जिस पर उन्हें चार लाख रुपये से ज्यादा खर्च करने पड़े। एक और सदस्य ने कहा कि उन्हें ऐसी पत्नी नहीं चाहिए क्योंकि वह अपना खाना खुद बनाते हैं और सारे घरेलू काम करते हैं। उन्होंने कहा, ‘‘उसके कारण मेरी नौकरी चली गई। उसका चेहरा देखने के बजाए मैं मरना पसंद करूंगा।’’

Aurangabad में है पत्नी पीड़ित पुरुषों के लिए आश्रम

महाराष्ट्र के औरंगाबाद के पास एक ‘पत्नी पीड़ित पुरुष आश्रम’ खुला है। यह एक ऐसा आश्रम है जहां पत्नियों द्वारा प्रताड़ित पुरुष आश्रय पा सकते हैं। इस आश्रम की स्थापना 19 नवम्बर 2016 को पुरुष अधिकार दिवस के मौके पर की गई बताई जाती है।

इस आश्रम की स्थापना एक पत्नी पीड़ित ने ही की है जिनका नाम है भारत फुलारे। भारत फुलारे किस हद तक अपनी पत्नी से पीड़ित हैं इसका अंदाजा आप इसी से लगा सकते हैं कि इनके खिलाफ इनकी पत्नी ने 147 केस दर्ज करा रखे हैं।

Aurangabad के इस आश्रम में प्रवेश लेने की शर्त है कि पति के ऊपर पत्नी द्वारा दर्ज कराये गए प्रकरणों की संख्या कम से कम 20 होनी चाहिए।

-एजेंसी

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Translate »