माफिया राजनेताओं मुख्तार, अतीक की सवा सौ करोड़ रुपये की संपत्ति जब्त की: ADG

लखनऊ। माफिया राजनेताओं मुख्तार अंसारी, अतीक अहमद और उनके गिरोहों के खिलाफ कार्यवाही में अबतक सवा सौ करोड़ रुपये की संपत्ति जब्त की गई, ये जानकारी देते हुए एडीजी कानून व्यवस्था प्रशांत कुमार ने बताया कि अतीक की 60 करोड़ से अधिक और मुख्तार की 66 करोड़ से अधिक की संपत्ति जब्त की गई है।

इसके अतिरिक्त मुख्तार को अवैध धंधों से हर साल होने वाली करीब 50 करोड़ और अतीक की करोड़ों की आय को बंद कराया गया है। वर्तमान में अतीक मौजूदा समय में गुजरात की साबरमती जेल में और मुख्तार पंजाब की रोपड़ जेल में बंद है। दोनों माफिया राजनेताओं के गिरोह व उनसे जुड़े अन्य लोगों चिह्नित कर कार्रवाई हो रही है।
उनके शस्त्र लाइसेंस रद्द कर कब्जा की गई और गलत तरीके से अर्जित की गई संपत्ति को जब्त किया जा रहा है। ऐसे कई लोगों का आपराधिक इतिहास भी खोला गया है और बड़े पैमाने पर गिरफ्तारियां हुई हैं। इनके अवैध धंधे बंद कराए गए हैं। अतीक अहमद पर 31 मुकदमे हैं, जो एमपीएमएलए कोर्ट में विचाराधीन हैं।

मुख्तार व उसके साथियों के खिलाफ कार्रवाई
मुख्तार की सरपरस्ती में अवैध बूचड़खाना चलाने के मामले में 26 को गिरफ्तार किया गया। इस धंधे से 2.5 करोड़ रुपये की सालाना आय होती थी, जो अब बंद हो गई। इसी तरह पार्किंग ठेका की आड़ में अवैध वसूली के मामले में 13 लोगों को गिरफ्तार किया गया। इससे 4.5 करोड़ रुपये की सालाना आय बंद हो गई।
– अवैध मछली कारोबार पर लगाए गए अंकुश के तहत मऊ में 8, वाराणसी में 7, भदोही में 8, जौनपुर में 1 व चंदौली में 2 कुल 25 लोगों को गिरफ्तार कर जेल भेजा गया। इस अवैध धंधे से होने वाली 33 करोड़ वार्षिक की आय को बंद कराया गया।
– मुख्तार के इशारे पर एयरपोर्ट की कब्जा की गई 27.5 करोड़ रुपये की 50 बीघा जमीन मुक्त कराई गई। तीन हाट मिक्स प्लांट ध्वस्त कर 9 करोड़ रुपये की मशीन जब्त की गई। इसके अलावा मगई नदी के पास 30 लाख की जमीन मुक्त कराई गई। पुलिस ने मुख्तार के आजमगढ़ में 3 सहयोगियों से 62 लाख की सरकारी जमीन मुक्त कराकर उन्हें जेल भेजा। साथ ही परिवार व सहयोगियों के 72 शस्त्र लाईसेंस निरस्त किए गए।
– इस तरह सरकार ने मुख्तार की कुल 66 करोड़ की जमीन जब्त की। सालाना हो रही 41 करोड़ की आमदनी बंद कराई। 96 सदस्यों को गिरफ्तार किया गया, 75 पर गैंगस्टर लगाया गया और 72 शस्त्र लाईसेंस निरस्त व निलंबित किए गए।

– एजेंसी

50% LikesVS
50% Dislikes

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *