एम. नागेश्वर ने संभाला सीबीआई डायरेक्टर का पद, आलोक वर्मा के फैसले रद्द किए

नई दिल्ली। आलोक वर्मा को हटाए जाने के एक दिन बाद एम. नागेश्वर ने शुक्रवार को सीबीआई डायरेक्टर पद का कार्यभार एक बार फिर से संभाल लिया। पद संभालते ही राव ने जहां वर्मा द्वारा पिछले 2 दिनों में लिए गए ट्रांसफर-पोस्टिंग समेत सभी फैसलों को रद्द कर दिया और 8 जनवरी की स्थिति को बहाल कर दिया। वहीं दूसरी तरफ, आलोक वर्मा ने फायर सर्विसेज के डीजी पद का चार्ज लेने से मना कर दिया है। बता दें कि डायरेक्टर पद से वर्मा की छुट्टी के बाद नागेश्वर राव को अंतरिम डायरेक्टर पद की जिम्मेदारी दी गई है।
वर्मा ने किए थे ताबड़तोड़ तबादले
इससे पहले सुप्रीम कोर्ट के आदेश से सीबीआई डायरेक्टर के तौर पर बहाल किए जाने के तुरंत बाद वर्मा ने 8 जनवरी को महकमे में ताबड़तोड़ तबादलों के आदेश दिए थे। वर्मा ने अपनी अनुपस्थिति में किए गए तबादलों को भी रद्द कर दिया था। उन्होंने गुरुवार को 2006 बैच के आईपीएस ऑफिसर मोहित गुप्ता को स्पेशल डायरेक्टर राकेश अस्थाना के खिलाफ मामले में इन्वेस्टिगेशन ऑफिसर नियुक्त किया था। इससे पहले, बुधवार सुबह कार्यभार संभालते ही 11 अधिकारियों के तबादले के आदेश दिए थे और गुरुवार को उन्होंने 5 नए बदलाव भी किए थे। अब नागेश्वर राव ने ये सारे फैसले रद्द कर दिए हैं।
बता दें कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की अध्यक्षता और लोकसभा में कांग्रेस के नेता मल्लिकार्जुन खड़गे व सुप्रीम कोर्ट के जस्टिस सीकरी की सदस्यता वाली उच्चाधिकार प्राप्त समिति ने गुरुवार को 2-1 के बहुमत के फैसले से वर्मा को सीबीआई डायरेक्टर पद से हटा दिया और उनका सीबीआई से बाहर तबादला कर दिया।
आलोक वर्मा ने चार्ज लेने से किया इंकार
इस बीच, आलोक वर्मा ने नई जिम्मेदारी संभालने से इंकार कर दिया है। वर्मा को सीबीआई डायरेक्टर पद से हटाकर फायर सर्विसेज का डायरेक्टर जनरल बनाया गया था लेकिन शुक्रवार को उन्होंने इसका चार्ज लेने से मना कर दिया। बता दें कि वह 31 जनवरी को रिटायर होने वाले हैं।
-एजेंसियां

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Translate »