लखनऊ: उर्दू अरबी-फारसी विश्वविद्यालय में अब संस्कृत भी पढ़ाई जाएगी

लखनऊ। ख्वाजा मुइनुद्दीन चिश्ती उर्दू अरबी-फारसी विश्वविद्यालय में इस साल से संस्कृत का विभाग शुरू किया जा रहा है। शुक्रवार को इसकी पहली बोर्ड ऑफ स्टडीज की बैठक आयोजित की गई जिसमें निर्णय लिया गया है कि लखनऊ विश्वविद्यालय और अलीगढ़ मुस्लिम विश्वविद्यालय की तर्ज पर ही विवि का संस्कृत का पाठ्यक्रम तैयार किया जाएगा। यह पाठ्यक्रम चॉइस बेस्ड क्रेडिट सिस्टम के तहत ही संचालित होगा जो सत्र 2018 से प्रभावी होगा।
विवि के कुलपति प्रो. माहरुख मिर्जा ने बताया कि बोर्ड ऑफ स्टडीज में एलयू के संस्कृत विभाग के हेड प्रो. राम सुमेर यादव और एमएमयू के संस्कृत विभाग के प्रो. मोहम्मद शरीफ को सदस्य नामित किया गया है।
चूंकि अभी संस्कृत की फैकल्टी नहीं है इसलिए दोनों प्रोफेसर अपने-अपने विवि के पाठ्यक्रमों के आधार पर यहां का सिलेबस तैयार करेंगे।
इसे अंतिम रूप देने के लिए एक सप्ताह में दोबारा बोर्ड ऑफ स्टडीज की बैठक बुलाई जाएगी। इसके बाद सिलेबस को बोर्ड ऑफ फैकल्टी और अकैडमिक काउंसिल में पास किया जाएगा। शासन से हमने संस्कृत विभाग में पठन-पाठन के लिए पदों की मांग की है जिस पर कार्यवाही चल रही है। सत्र शुरू होने से पहले उम्मीद है विवि को शिक्षक मिल जाएंगे।
-एजेंसी

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Translate »