गुजरात के द्वारकाधीश मंदिर में भगवान Krishna का हुआ विशेष श्रृंगार

द्वारका। देश में आज जन्‍माष्‍टमी का त्‍यौहार धूमधाम से मनाया जा रहा है, इस विशेष अवसर पर गुजरात के भगवान Krishna के दो विश्वप्रसिद्ध मंदिरों सौराष्ट्र में द्वारका के जगत मंदिर तथा मध्य गुजरात के डाकोर के रणछोड़राय जी मंदिर में आज जन्माष्टमी के मौके पर मनोहारी सजावट की गयी है तथा विशेष पूजा अर्चना के आयोजनों के बीच भक्तों की भीड़ उमड़ पड़ी।

भगवान विष्णु, श्री Krishna को जिनका अवतार माना जाता है, के उत्तर गुजरात स्थित विख्यात शामलाजी मंदिर में कुछ ऐसा ही माहौल दिखा। तीनो ही मंदिरों में भगवान की प्रतिमा का आज रत्नाभूषणों से विशेष शृंगार किया गया।

द्वारका के जगत मंदिर में हर साल जन्माष्टमी के मौके पर मध्य रात्रि से तड़के ढाई बजे तक विशेष जन्मोत्सव दर्शन के दौरान भगवान को विशेष आभूषणों से सजाया जाता है। मंदिर के उप प्रशासक ने बताया कि नियमित आयोजित होने वाली मंगला, शृंगार, संध्या और शयन आरती के स्थान पर जन्माष्टमी का मुख्य आकर्षण यहीं होता है। आम तौर पर इस मंदिर में रोज दस हजार के आसपास दर्शनार्थी आते हैं पर जन्माष्टमी की पूर्व संध्या पर यह संख्या 50 हजार या उससे अधिक और जन्माष्टमी को 80 हजार से एक लाख तक पहुंच जाती है।

उधर डाकोर मंदिर के संचालन ट्रस्ट के एक अधिकारी ने बताया कि आज कृष्ण स्वरूप रणछोड़रायजी की प्रतिमा को तीन से चार किलो सोने से बने और रत्न एवं हीर आदि जटित मुकुट पहनाया जाता है। ऐसा साल भर में जन्माष्टमी के अलावा केवल दो और मौकों आश्विन और कार्तिक पूर्णिमा को ही किया जाता है।

उन्होने बताया कि आम तौर पर यह मंदिर सुबह साढ़े छह बजे मंगला आरती के साथ खुलता है और शाम साढ़े सात बजे अंतिम आरती शयना आरती के साथ बंद हो जाता है पर जन्माष्टमी को यह मंदिर के पट मध्यरात्रि के बाद भी खुले रहते हैं।

-एजेंसी

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Translate »