Train Loot, बदमाशों से धक्का-मुक्की में नीचे गिरी मां-बेटी, दोनों की मौत

मथुरा। मथुरा में आज शनिवार तड़के निजामुद्दीन त्रिवेंद्रम सेंट्रल सुपर फास्ट एक्सप्रेस Train Loot के बाद बदमाशों के साथ हुई धक्का-मुक्की में मां-बेटी की ट्रेन से गिरकर मौत हो गई। Train Loot के बाद एस-2 कोच से बदमाश उनका नकदी और सामान से भरा बैग लेकर भाग रहे थे।
मां-बेटी बदमाशों से भिड़ते हुए ट्रेन के गेट पर आ गई थीं। इसी दौरान धक्का लगा और नीचे गिर गईं। दूसरी बर्थ पर सो रहे बेटे को जब जानकारी हुई तो उसने चेन पुलिंग करके ट्रेन को रोक दिया। बदमाश जिस बैग को लेकर भागे हैं उसमें कैश, मोबाइल और चेक थे।

यह परिवार कोटा के कोचिंग सेंटर में युवती का दाखिला कराने के लिए जा रहा था।ट्रेन में लूटपाट के बाद मां-बेटी की मौत की यह वारदात वृंदावन रोड रेलवे स्टेशन से दो किलोमीटर पहले (दिल्ली की तरफ) आझई रेलवे स्टेशन के पास की बताई जा रही है।

बैग लेकर भाग रहे थे बदमाश
निजामुद्दीन त्रिवेंद्रम सेंट्रल सुपर फास्ट एक्सप्रेस के एस-2 कोच में दिल्ली शाहदरा निवासी दिलीप की पत्नी मीना (55), बेटी मनीषा (21) और बेटा आकाश (23) बर्थ नंबर पर 1, 3 और 4 पर थे। मां बेटी की सीट नीचे थी जबकि आकाश सबसे ऊपर वाली सीट पर था।

तड़के करीब 3:45 पर मीना टायलेट के लिए उठी थीं। जब वो टायलेट से वापस आईं तो उनकी सीट पर रखे बैग को बदमाश उठा रहे थे। मीना ने बदमाश से बैग छीनने की कोशिश की। इसी दौरान मनीषा की भी आंख खुल गई और वह भी बैग को बदमाशों से खींचने लगी।

इसी खींचातानी में दोनों ट्रेन में गेट के पास पहुंच गईं। बदमाश ने तेजी से झटके के साथ बैग को खींचा और दोनों से धक्का-मुक्की करने लगा। बदमाशों से धक्का-मुक्की के दौरान दोनों गिर गईं और बदमाश बैग लेकर कूद गया।

जब हल्ला मचा तो आकाश की भी आंख खुल गई और उसने लोगों से घटना के बारे में पूछा। जब उसे पता चला कि उसकी मां और बहन को ट्रेन से फेंका गया है तो उसने चेन खींच दी। लेकिन तब तक ट्रेन वृंदावन रोड स्टेशन पर पहुंच चुकी थी।

उसने घटना की जानकारी रेलवे स्टाफ को दी। इस घटना की जानकारी से हड़कंप मच गया। तत्काल मौके पर एंबुलेंस भेजी गई लेकिन तब तक मां-बेटी की मौत हो चुकी थी। इस मामले में गैर इरादतन हत्या का मुकदमा दर्ज कर दिया गया है।

– एजेंसी

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *