लोकसभा Election समय पर ही, तारीखों की घोषणा शीघ्र: मुख्‍य चुनाव आयुक्‍त

नई दिल्‍ली। मुख्य चुनाव आयुक्त सुनील अरोड़ा ने स्पष्ट किया कि लोकसभा Election समय पर ही होंगे। भारत-पाकिस्तान सीमा पर तनाव और देश के ताजा हालात के बीच चुनाव आयोग ने बताया कि वह इसके लिए पूरी तरह तैयार है। चुनाव आयोग जल्द ही लोकसभा Election की तारीखों का ऐलान करेगा।
पहले ऐसी अटकलें लगाई जा रही थीं कि लोकसभा Election थोड़ा आगे बढ़ाए जा सकते हैं। वहीं, ईवीएम के सवाल पर उन्होंने कहा कि ईवीएम को हमने फुटबॉल बना दिया है।
फॉर्म-26 के शपथपत्र प्रारूप में बदलाव
मुख्य चुनाव आयुक्त सुनील अरोड़ा ने कहा, ‘ईवीएम को हमने जाने-अनजाने में फुटबॉल बना दिया है। रिजल्ट अनुकूल है तो ईवीएम ठीक है, और नहीं तो खराब।’
उन्होंने बताया कि चुनाव आयोग ने फॉर्म 26 में शपथपत्र के प्रारूप में बदलाव किया है। अब प्रत्याशी को पति/पत्नी बच्चों/ आश्रितों के 5 साल की आय का ब्यौरा देना होगा। इसमें देश के साथ ही विदेश की सम्पत्ति का भी ब्यौरा शामिल है। पैन के साथ यह जानकारी देनी होगी।
लॉन्च होगी सी विजिल ऐप
सुनील अरोड़ा ने बताया, ‘इस बार Election में सी विजिल ऐप लॉन्च किया जाएगा। इसे पायलट प्रोजेक्ट के तौर पर कर्नाटक में लॉन्च किया गया था, जहां हमें 28 हजार शिकायत नागरिकों के जरिए मिली थी।’ उन्होंने बताया कि ऐप के जरिये नागरिक Election से जुड़ी कोई भी शिकायत इस पर करेगा तो 100 मिनट में अधिकारी को रिस्पॉन्स करना होगा कि उन्होंने क्या कार्यवाही की।
उन्होंने बताया कि अगर नागरिक कैश इस्तेमाल करने या कोई और गंभीर शिकायत करते वक्त अपना नाम गुप्त रखना चाहता है तो उसे भी सुविधा होगी। आयोग उस पर की गई कार्यवाही की जानकारी अखबार में विज्ञापन के जरिए देगा।
मुख्य निर्वाचन आयुक्त ने कहा कि इसके बाद भी हमने लोगों की भावना का संज्ञान लेते हुए वीवीपैट की व्यवस्था की। इसमें कुछ शुरुआती दिक्कतें आईं। मगर उनकी भी व्यवस्था कर ली गयी है।
उन्होंने कहा कि उच्चतम न्यायालय ने भी स्पष्ट कर दिया है कि देश में मतपत्रों से मतदान की व्यवस्था बहाल नहीं की जाएगी। अरोड़ा ने कहा कि ईवीएम का निर्माण रक्षा उपकरण बनाने वाली ‘हाईली सिक्योर’ कम्पनियां भारत इलेक्ट्रॉनिक्स लिमिटेड (बीईएल) और इलेक्ट्रॉनिक्स कॉरपोरेशन ऑफ इण्डिया लिमिटेड (ईसीआईएल) करती हैं।
ईवीएम की व्यवस्था की निगरानी के लिये एक तकनीकी परामर्शदात्री समिति है, जिसके पास निर्णायक शक्ति है। वह ताकत चुनाव आयोग के पास भी नहीं है। उस समिति में दुनिया के सर्वश्रेष्ठ विशेषज्ञ शामिल हैं, लिहाजा संदेह की कोई गुंजाइश नहीं है।
आचार संहिता का होगा कड़ाई से पालन: चुनाव आयोग
मुख्य निर्वाचन आयुक्त सुनील अरोड़ा ने आगामी लोकसभा Election को स्वतंत्र, निष्पक्ष और पारदर्शीपूर्ण तरीके से कराने का संकल्प व्यक्त करते हुए कहा है कि चुनाव के दौरान आचार संहिता का कड़ाई से पालन होगा और हर शिकायत पर तत्परता से कार्यवाही की जाएगी।
अरोड़ा ने लोकसभा चुनाव की तैयारियों का जायजा लेने के लिए पिछले तीन दिनों से चल रही बैठकों के दौर के बाद शुक्रवार को प्रेस कांफ्रेंस में कहा कि आयोग के साथ बैठक में राजनीतिक दलों ने जातीय, साम्प्रदायिक भाषणों पर रोक लगाने, चुनाव के दौरान शत प्रतिशत केन्द्रीय बलों की तैनाती करने, मतदाता सूची में गड़बड़ियां सुधारने, मतदाता सूची को आधार से जोड़ने और इलेक्ट्रानिक वोटिंग मशीन से मतदान की गोपनीयता सुनिश्चित करने समेत अनेक मुद्दे उठाए।
उन्होंने कहा कि आयोग स्वतंत्र, निष्पक्ष और पारदर्शी तरीके से चुनाव कराने के लिए संकल्पबद्ध है।
इस सवाल पर कि क्या पाकिस्तान में वायु सेना के हमले के बाद पैदा सूरतेहाल में चुनाव समय से हो सकेंगे, अरोड़ा ने कहा कि चुनाव समय पर ही होंगे।
उन्होंने बताया कि आगामी लोकसभा Election के दौरान पूरे देश में ‘सी-विजिल’ मोबाइल एप्लीकेशन जारी किया जाएगा, जिस पर कोई भी नागरिक चुनाव से सम्बन्धित शिकायत दर्ज करा सकता है। शिकायतकर्ता का नाम गोपनीय रखने का विकल्प भी होगा।
आयोग उन शिकायतों पर हुई कार्यवाही को अपने खर्च पर अखबारों में छपवायेगा। सोशल मीडिया पर नजर रखने के लिये एमसीएमसी कमेटियों में एक-एक सोशल मीडिया विशेषज्ञ की तैनाती होगी।
उन्होंने कहा कि इस बार प्रदेश के सभी एक लाख 63 हजार 331 मतदान केन्द्रों पर ईवीएम के साथ-साथ वीवीपैट का प्रयोग किया जाएगा। वीवीपैट मशीन के उपयोग के बारे में लोगों को जागरूक करने के लिये शुरू किये गये अभियान को बूथ स्तर तक ले जाने की कोशिश की जाएगी।
अरोड़ा ने बताया कि लोकसभा के आगामी Election में फार्म 26 में दिये जाने वाले शपथपत्र में अब प्रत्याशियों को अपनी पत्नी अथवा पति, आश्रित पुत्र, पुत्री और एचयूएफ (अविभाजित हिन्दू परिवार) के पांच सालों की आय का विवरण देना होगा।
-एजेंसियां

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Translate »