के. डी. हॉस्‍पिटल के डाॅ. सम्राट रे ने किया Liver ऑपरेशन

मथुरा। मानव शरीर का सबसे महत्वपूर्ण अंग है Liver जो यदि काम करना बंद कर दे तो व्यक्ति की मौत हो सकती है। के. डी. मेडिकल काॅलेज-हाॅस्पिटल एण्ड रिसर्च सेण्टर के जाने-माने गैस्ट्रो सर्जन डाॅ. सम्राट रे के नेतृत्व में 25 जून को विशेषज्ञ चिकित्सकों की टीम ने तीन घण्टे के अथक प्रयासों के बाद गौरी (35 वर्ष) के Liver का दुर्लभ ऑपरेशन कर खून के गुच्छे को निकालने में सफलता हासिल की है। इस तरह की सर्जरी ब्रज क्षेत्र में पहली बार हुई है। अब गौरी पूरी तरह से स्वस्थ है।

ज्ञातव्य है कि गौरी पत्नी दाऊजी शर्मा निवासी मथुरा काफी समय से पेट दर्द से परेशान थी। उसने पेट दर्द से निजात के लिए कई डाक्टरों से उपचार कराया लेकिन उसे राहत नहीं मिली। आखिरकार वह के. डी. मेडिकल काॅलेज-हाॅस्पिटल एण्ड रिसर्च सेण्टर के गैस्ट्रो सर्जन डाॅ. सम्राट रे से मिली। डाॅ. रे द्वारा महिला का सीटी स्कैन कराने के बाद पता चला कि उसके Liver के दाहिने हिस्से पर खून का गुच्छा है। महिला की स्थिति गम्भीर देखते हुए डाॅक्टरों द्वारा उसके ऑपरेशन का निर्णय लिया गया। 25 जून को गैस्ट्रो सर्जन डाॅ. सम्राट रे के नेतृत्व में डाॅ. श्याम बिहारी शर्मा, डाॅ. विक्रम यादव, निश्चेतना विशेषज्ञ डाॅ. अमर पाल भल्ला, डाॅ. स्वाति वर्मा तथा योगेश व नाहर सिंह की टीम द्वारा कोई तीन घण्टे के प्रयासों के बाद गौरी के Liver से पांच गुणा छह सेंटीमीटर के खून के गुच्छे को निकाला गया। डाॅक्टरों की टीम ने ऑपरेशन में Liver का एक चौथाई हिस्सा भी निकाल दिया।

डाॅ. रे का कहना है कि गौरी पिछले दो साल से गर्भ निरोधक गोलियों का सेवन कर रही थी यही वजह है कि उसे इस तरह की परेशानी का सामना करना पड़ा। यकृत के सर्जरी की जहां तक बात है यह दिल्ली, मुम्बई आदि मैट्रो शहरों के बड़े-बड़े हाॅस्पिटलों में ही सम्भव है। डाॅ. रे का कहना है कि इस तरह की सर्जरी का खर्च काफी महंगा होता है जबकि के. डी. हाॅस्पिटल में बहुत ही कम पैसे में गौरी का आपरेशन किया गया है। मथुरा की जहां तक बात है गैस्ट्रो मेडिसिन और सर्जरी की व्यवस्था सिर्फ के. डी. मेडिकल काॅलेज-हाॅस्पिटल एण्ड रिसर्च सेण्टर में ही उपलब्ध है। के. डी. हाॅस्पिटल में गैस्ट्रो के सभी तरह के ऑपरेशन दूरबीन और चीरा विधि से करने की व्यवस्था भी 24 घण्टे उपलब्ध है।

आर. के. एज्युकेशन हब के चेयरमैन डा. रामकिशोर अग्रवाल ने महिला के दुर्लभ सफल ऑपरेशन के लिए के. डी. मेडिकल काॅलेज-हाॅस्पिटल एण्ड रिसर्च सेण्टर के डाक्टरों की तारीफ की। डाॅ. अग्रवाल ने बताया कि मथुरा में गैस्ट्रो उपचार की सुविधा नहीं होने के कारण मरीजों को दिल्ली, मुम्बई आदि के चक्कर लगाने पड़ते थे अब के. डी. हाॅस्पिटल में हर सुविधा उपलब्ध है, जिसका लाभ ब्रजवासी उठा सकते हैं।

50% LikesVS
50% Dislikes

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *