8 तरह की मौतों पर नहीं मिलता लाइफ इंश्योरेंस का पैसा

लाइफ इंश्योरेंस पॉलिसी किसी व्यक्ति द्वारा इसलिए ली जाती है ताकि उसकी मृत्यु के बाद उसके परिवार को आर्थिक दिक्कतों का सामना न करना पड़े।
हालांकि कई तरह की मौतों को लाइफ इंश्योरेंस पॉलिसी के तहत कवर नहीं किया जाता।
पॉलिसी होल्डर के मर्डर में नॉमिनी शामिल होने पर
अगर पॉलिसी होल्डर का मर्डर हो जाता है और पुलिस की जांच में खुलासा होता है कि इस अपराध में नॉमिनी शामिल है तो ऐसी स्थिति में वह इंश्योरेंस के पैसे के लिए क्लेम नहीं कर सकता।
इसके अलावा अगर पॉलिसी होल्डर की आपराधिक गतिविधियों में शामिल होने के कारण हत्या हुई है तो भी इंश्योरेंस कवर का दावा नहीं किया जा सकता।
शराब के सेवन की वजह से हुई मौत
अगर शराब पीने की वजह से रोड एक्सिडेंट में पॉलिसी होल्डर की मौत हो गई है तो भी बीमा कंपनी कवर के दावे को अस्वीकार कर सकती है।
पहले से मौजूद स्वास्थ्य समस्याओं की वजह से हुई मौत
टर्म इंश्योरेस लेते समय अगर अगर कोई व्यक्ति किसी स्वास्थ्य समस्या से जूझ रहा है और उसकी उस वजह से मौत हो जाती है तो वह भी लाइफ इंश्योरेंस में कवर नहीं किया जाता।
खतरनाक गतिविधियों से जुड़े रहने पर
जो लोग जोखिम भरे कामों में जुड़े रहते हैं उनकी मौत को टर्म इंश्योरेंस में कवर नहीं किया जाता। इन गतिविधियों में पॉलिसी होल्डर के जान का खतरा हमेशा बना रहता है और बड़े एक्सिडेंट की संभावना भी होती है।
बच्चे के जन्म के समय हुई मौत
अगर किसी महिला की मौत बच्चे को जन्म देते समय हुई है तो भी उसे लाइफ इंश्योरेंस में कवर नहीं किया जाता।
सुइसाइड करने पर
सुइसाइड पर अलग-अलग बीमा कंपनियों के अलग-अलग टर्म एंड कंडीशन हैं। अगर पॉलिसी होल्डर ने पॉलिसी टर्म के पहले साल में सुइसाइड किया है तो परिवार को कोई कवर नहीं मिलता। हालांकि कुछ कंपनियां टर्म इंश्योरेंस लेने के दूसरे साल या उसके बाद हुए सुइसाइड पर कवर देती हैं।
स्मोकिंग की आदत का खुलासा नहीं करने पर
अगर आप स्मोकिंग करते हैं तो टर्म इंश्योरेंस प्लान में इसका खुलासा करना जरूरी है। स्मोकर्स को स्वास्थ्य से जुड़ी दिक्कतों का खतरा ज्यादा होता है और बीमा कंपनी इसके लिए प्रीमियम के समय अधिक धनराशि जोड़ती हैं। अगर स्मोकिंग की वजह से होने वाली बीमारी के कारण मौत हो जाए तो बीमा का पैसा नहीं मिलता।
प्राकृतिक आपदा के कारण हुई मौत
अगर पॉलिसी होल्डर की मौत प्राकृतिक आपदाओं जैसे भूकंप, चक्रवात, सुनामी की वजह से हुई है तो भी नॉमिनी इंश्योरेंस कवर के लिए दावा नहीं कर सकता।
-एजेंसियां

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Translate »