मुंबई में बारिश से जनजीवन अस्त-व्यस्त, ट्रेन में फंसे दो हजार यात्री

महाराष्ट्र की राजधानी मुंबई और आसपास के इलाकों में भारी बारिश से जनजीवन अस्त-व्यस्त है। मौसम विभाग के अनुसार पिछले 24 घंटों में मुंबई में 150 से 180 मिलीमीटर बारिश हुई है। आज भी वहां भारी बारिश हो रही है। इस दौरान लोगों को बाहर न निकलने और समुद्र तट पर न जाने की सलाह दी गई है। खराब मौसम के चलते अब तक 24 उड़ानें प्रभावित हुई हैं। महालक्ष्‍मी एक्‍सप्रेस बदलापुर और वांगनी स्‍टेशनों के बीच पानी से भरे ट्रैक पर फंस गई है। उसमें फंसे 2 हजार यात्रियों को निकालने के लिए एनडीआरएफ टीम पहुंच गई हैं। हालांकि, सेंट्रल रेलवे के प्रवक्ता का कहना है कि ट्रेन में सिर्फ 700 यात्री हैं। उन्होंने बताया कि एनडीआरएफ की टीम और जल सेना (नेवी) के हेलिकॉप्टर राहत और बचाव कार्य में जुटे हुए हैं। ट्रेन में फंसे यात्रियों के लिए तीन नौकाएं भेजी गईं हैं। इस बीच रेलेव प्रोटेक्शन फोर्स और नगर पुलिस मौके पर पहुंचकर ट्रेन में फंसे यात्रियों को बिस्किट, पानी जैसी जरूरी सामग्रियां बांट रहे हैं। डायरेक्टरेट जनरल ऑफ इन्फॉर्मेशन एंड पब्लिश रिलेशन (डीजीआईपीआर) के ब्रिजेश सिंह ने बताया कि बदलापुर और वांगनी स्टेशनों के बीच फंसी महालक्ष्मी एक्सप्रेस के यात्रियों को सकुशल निकालने के लिए तीन नौकाएं वहां भेजी गई हैं।
मौसम विभाग की मानें तो मुंबईकरों को अभी बारिश से राहत मिलने के आसार नहीं हैं। विभाग की ओर से जारी पूर्वानुमान में राजधानी और इसके आसपास के इलाकों में आंधी आने की भी संभावना जताई गई है।
विभाग के मुताबिक अगले 4 घंटों के दौरान ठाणे, रायगढ़ और मुंबई में 50 से 60 किमी प्रतिघंटे की रफ्तार से तेज हवाएं चलने के आसार हैं। इसके अलावा मॉनसून धाराओं के मजबूत होने की वजह से अगले 48 घंटों में उत्तरी कोंकण इलाके में भारी बारिश होने का अनुमान है।
यात्रियों से ट्रेन में ही बने रहने की अपील
सेंट्रल रेलवे के सीपीआरओ ने पानी में फंसी महालक्ष्‍मी एक्‍सप्रेस के यात्रियों से अपील की है। अपनी अपील में रेलवे ने कहा है, ‘हम महालक्ष्‍मी एक्‍सप्रेस के यात्रियों से अनुरोध करते हैं कि वे ट्रेन से न उतरें। ट्रेन सुरक्षित है। रेलवे स्‍टाफ, आरपीएफ और नागरिक पुलिस आपको ट्रेन में खोज रही है। कृपया एनडीआरएफ और दूसरी जोखिम प्रबंधन एजेंसियों की सलाह का इंतजार करें।’
7 फ्लाइट्स कैंसल
खराब मौसम और भारी बारिश के चलते राज्य में हवाई यात्राएं भी प्रभावित हुई हैं। छत्रपति शिवाजी अंतर्राष्ट्रीय एयरपोर्ट के जनसंपर्क अधिकारी ने बताया कि पिछले दो घंटे से राज्य में भारी बारिश के कारण तकरीबन सभी उड़ानें औसतन आधे घंटे लेट हैं। मुंबई इंटरनेशनल एयरपोर्ट लिमिटेड (एमआईएएल) के पीआर ने बताया कि अब तक 24 उड़ानें प्रभावित हुई हैं। इनमें से 7 को कैंसल किया गया है जबकि 8 उड़ानें आखिरी समय में लैंडिंग कैंसल होने कुछ समय बाद दोबारा लैंड हो पाईं और 9 का रूट डायवर्ट किया गया है।
मौसम विभाग ने जारी किया ऑरेंज अलर्ट
इससे पहले महाराष्ट्र की राजधानी मुंबई स्थित क्षेत्रीय मौसम विज्ञान केंद्र ने शुक्रवार को ठाणे और पुणे में ऑरेंज अलर्ट जारी किया था। इसके पहले 26 और 28 जुलाई के लिए पालघर में रेड अलर्ट जारी किया जा चुका है। बता दें कि मॉनसून की विभिन्न स्थितियों के लिए रेड से लेकर ऑरेंज तक अलग-अलग अलर्ट जारी किए जाते हैं। इनमें ऑरेंज अलर्ट अधिकारियों को गंभीर स्थिति से निपटने के लिए तैयार रहने का सिग्नल होता है। मौसम विभाग के मुताबिक मंगलवार की आधी रात के बाद से राज्य में मॉनसून एक बार फिर ऐक्टिव हो गया है। ऐसे में भारी बारिश की वजह से राज्य के निचले इलाके में बाढ़ की संभावना भी जताई जा रही है। इसके अलावा भारी बारिश के चलते पुरानी और जर्जर इमारतों की वजह से हादसों की भी संभावना है। इसे लेकर मौसम विभाग की ओर से अधिकारियों को अलर्ट रहने का सिग्नल दिया गया है। बारिश से रेल सेवाएं भी बुरी तरह से प्रभावित हुई हैं। मुंबई लोकल की सेंट्रल लाइन पर स्थित बदलापुर रेलवे स्‍टेशन के रेलवे ट्रैक बारिश के पानी में डूब गए हैं।
लोगों को सतर्क रहने के निर्देश
विभाग के एक अधिकारी के मुताबिक 27 जुलाई से भारी बारिश की आशंका के चलते लोगों को सतर्क रहने की जरूरत है क्योंकि ऐसी परिस्थिति में पुराने ढांचों, मकानों की दीवारें ढह सकती हैं। बता दें कि राज्य में बीते दिनों दीवार गिरने की वजह से कई लोग घायल हो गए थे। ऐसे हादसे में कई लोगों की जानें भी चली गई थीं।
इसके अलावा मौसम विभाग ने बताया कि मॉनसून के एक बार फिर ऐक्टिव होने से मुंबई और ठाणे में भारी बारिश होने की संभावना है। क्षेत्रीय मौसम विभाग के उप महानिदेशक केएस होसलिकर के मुताबिक, मध्य और उत्तर-पश्चिम भारत में एक मजबूत मॉनसून की स्थिति देखी जा रही है।
-एजेंसियां

50% LikesVS
50% Dislikes

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *