तलाक के बाद भी पटरी पर लाई जा सकती है जीवन की गाड़ी

तलाक के बाद अक्सर लोग इमोशनली वीक हो जाते हैं और जीवन की गाड़ी को फिर से पटरी पर कैसे लाना है इस बारे में सोच ही नहीं पाते। ऐसे में खुद को थोड़ा समय दें और कुछ जरूरी बातों का ध्यान रखें।
किसी भी रिलेशनशिप का खत्म होना हमेशा ही तकलीफदेह होता है खासतौर पर अगर वह रिश्ता पति-पत्नी का हो। तलाक लेकर पार्टनर से अलग होना कोई भी नहीं चाहता लेकिन कई बार हालात ऐसे बन जाते हैं कि न चाहते हुए भी आपको तलाक जैसा कठोर फैसला लेना पड़ता है। ऐसे में अगर आप भी उन लोगों में से हैं जो पार्टनर से तलाक लेने के बाद दुखी हैं, खुद को संभाल नहीं पा रहे और लाइफ में आगे बढ़ने के रास्ते तलाश रहे हैं तो इन बातों का रखें ध्यान…
तलाक के बाद इमोशनल बदलाव
जब आप किसी व्यक्ति से लंबे वक्त तक भावनात्मक रूप से जुड़े होते हैं तो उससे अलग होने का असर आपके इमोशन्स के साथ-साथ आपकी मानसिक स्थिति पर भी पड़ता है। बहुत से लोग तो इस बात को स्वीकार ही नहीं कर पाते कि उनका तलाक हो गया है। उन्हें ऐसा महसूस होता है कि उनके साथ धोखा हुआ है और वे अंदर तक टूट जाते हैं। बहुत से लोग ऐसे भी होते हैं जो इस पूरी स्थिति के लिए खुद को जिम्मेदार मानते हुए अपने अंदर ही गलतियां खोजने लगते हैं। हालांकि एक बार जब आपके अंदर का गुस्सा और अपराधबोध शांत हो जाएगा और आप तलाक को स्वीकार कर लेंगे उसके बाद आप धीरे-धीरे इस बदलाव के हिसाब से जीना सीख लेंगे।
करियर पर फोकस करें
अगर आप तलाक से पहले अपने पार्टनर पर पूरी तरह से निर्भर थे तो अब आपको एहसास होगा कि आपको अपने करियर पर फोकस करने की जरूरत है ताकि आप अपने खर्चे और अपनी जिम्मेदारियां खुद उठा सकें। आपके पास यह बेहतरीन मौका है खुद से कुछ करने का जो आपको पसंद हो ताकि आप आर्थिक मदद के लिए दूसरों पर निर्भर न रहें।
जिम्मेदारी उठाएं
अब जब आप रिश्ते से बाहर निकलकर अकेले हो गए हैं तो आपको अपनी जिम्मेदारी अपने हाथों में लेनी होगी। आपको खुद को फिर से बनाना होगा और इसके लिए आपको शर्मिंदगी महसूस करने की जरूरत नहीं। आपको खुद को सशक्त बनाना होगा।
दोस्तों की होगी पहचान
जब बुरा वक्त आता ही तभी असली दोस्तों की पहचान होती है लिहाजा ऐसे समय में जब आप अकेले हैं और आपको इमोशनल सपोर्ट की जरूरत है आपके सच्चे दोस्त कौन हैं इसकी परख आपको हो जाएगी।
बच्चों का ऐसे रखें ध्यान
अगर आपके बच्चे हैं और तलाक के बाद वे आपके साथ रह रहे हैं तो जाहिर सी बात है अब आपको अकेले ही उनका ध्यान रखना है। इसका मतलब है कि आपकी जिम्मेदारी अब और बढ़ जाएगी लेकिन इस वजह से परेशान और स्ट्रेस्ड होने की जरूरत नहीं। इस चैलेंज को स्वीकार करें और अच्छी तरह से निभाएं तभी आपके बच्चे आपको रोल मॉडल के तौर पर देखेंगे।
ये गलतियां बिलकुल न करें
बीते हुए कल के बारे में सोचना
बजट न बनाना
पार्टनर का सोशल मीडिया पर या कहीं बाहर पीछा करना
-एजेंसियां

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Translate »