राजीव एकेडमी में सॉफ्टवेयर तकनीक पर हुआ व्याख्यान

मथुरा। सूचना क्रांति के इस दौर में नित नए-नए सॉफ्टवेयर्स आ रहे हैं। कम्प्यूटर हो या मोबाइल नये सॉफ्टवेयर उपभोक्ताओं को अपनी ओर जरूर आकर्षित करते हैं। युवा पीढ़ी सॉफ्टवेयर तकनीक पर दक्षता हासिल कर आईटी के क्षेत्र में अपना भविष्य संवार सकती है। गुरुवार को राजीव एकेडमी में आयोजित ऑनलाइन व्याख्यान में टी.सी.एस. कम्पनी की सॉफ्टवेयर डवलपर निष्ठा जैन ने बीसीए प्रथम सेमेस्टर के नव प्रवेशित छात्र-छात्राओं को सॉफ्टवेयर तकनीक से रूबरू कराया।

निष्ठा जैन ने छात्र-छात्राओं को बताया कि ऑफिस से घर तक के काम को सुविधाजनक और आसान बनाने के लिए आएदिन सॉफ्टवेयर में बदलाव लाए जा रहे हैं। ये सॉफ्टवेयर कैसे तैयार किए जाते हैं? ग्राहकों की सुविधा को ध्यान में रखकर सॉफ्टवेयर कैसे विकसित करना है, इन बातों की जानकारी तभी हासिल की जा सकती है, जब हम इस पर गहन मंथन करते हैं। निष्ठा जैन ने अपने व्याख्यान में छात्र-छात्राओं को नये-नये सॉफ्टवेयर टूल्स और तकनीक के बारे में जानकारी देने के साथ ही उन्हें प्रोग्रामिंग, टेस्टिंग, डाटाबेस मैनेजमेंट और वेबसाइट डेवलमेंट के पहलुओं से भी रूबरू कराया। निष्ठा जैन ने कहा कि सॉफ्टवेयर तकनीक पर कमांड रखने वाले छात्र-छात्राएं नौकरी के पीछे भागने की बजाय अपना निजी व्यवसाय भी शुरू कर सकते हैं।

निष्ठा जैन ने विद्यार्थियों से कहा कि कोरोना टाइम के चलते हरेक विद्यार्थी का यह पहला नियम और कर्तव्य बनता है कि वह भारत सरकार के बताए हुए निर्देशों का पालन करे। विद्यार्थी अपने कोर्स की सैद्धांतिक पढ़ाई करते रहें, इसके साथ ही वे समय-समय पर आने वाली नई तकनीक तथा नए-नए सॉफ्टवेयर अपडेट्स पर भी दृष्टि बनाए रखें। इस अवसर पर छात्र-छात्राओं द्वारा करिअर निर्माण को लेकर कई प्रश्न पूछे गए जिनका गेस्ट लेक्चरर निष्ठा जैन ने सटीक उत्तर दिया। उल्लेखनीय है कि रिसोर्स परसन राजीव एकेडमी के बैच 2012-15 की पूर्व छात्रा रही हैं। निष्ठा जैन ने अपनी सफलता का श्रेय राजीव एकेडमी के शिक्षकों द्वारा प्रदत्त उत्तम कोटि के ज्ञान को दिया।

संस्थान के निदेशक डा. अमर कुमार सक्सेना ने कहा कि कोरोना संक्रमण का शिक्षा के क्षेत्र में भी व्यापक प्रभाव पड़ा है, इसीलिए राजीव एकेडमी फार मैनेजमेंट एण्ड टेक्नोलाजी द्वारा विषय विशेषज्ञों के व्याख्यान के माध्यम से छात्र-छात्राओं को नया प्लेटफार्म देने का प्रयास किया जा रहा है।
– Legend News

50% LikesVS
50% Dislikes

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *