लीक हुए डॉक्यूमेंट्स से खुलासा: शिनजियांग क्षेत्र में उइगर मुसलमानों के दमन के पीछे चीनी राष्‍ट्रपति जिनपिंग का अहम रोल

लीक हुए चीनी डॉक्यूमेंट्स से पता चला है कि शिनजियांग क्षेत्र में अल्पसंख्यकों के खिलाफ जारी जुल्म के पीछे चीनी राष्ट्रपति शी जिनपिंग का अहम रोल रहा है। वाशिंगटन पोस्ट की एक रिपोर्ट बताती है कि जिनपिंग इस पूरे अभियान को निर्देशित कर रहे थे। इन लीक डॉक्यूमेंट्स की कॉपीज उइगुर ट्रिब्यूनल की वेबसाइट पर भी पोस्ट की गई हैं।
लीक हुए डॉक्यूमेंट्स 2014-2017 के बीच की हैं। इन डॉक्यूमेंट्स में शी जिनपिंग सहित चीनी कम्युनिस्ट पार्टी के कई टॉप नेताओं के भाषण है जिसमें शिनजियांग पर विशेष फोकस रखा गया है। इन डॉक्यूमेंट के मुताबिक जिनपिंग ने अल्पसंख्यकों के बीच बढ़ते धार्मिक प्रभाव को लेकर चेतावनी दी है। उन्होंने शिनजियांग में जनसंख्या संतुलन पर जोर दिया है। शिनजियांग पर नियंत्रण बनाए रखने के लिए अल्पसंख्यकों और हान चीनी आबादी के बीच संतुलन बनाने की बात कही है।
जिनपिंग ने शिनजियांग में धार्मिक चरमपंथ की ताकतों को कुचलने आदि की बातें भी कही हैं। उन्होंने कहा है कि शिनजियांग की सबसे बड़ी दिक्कत बेरोजगारी है। बड़ी संख्या में बेरोजगार लोग परेशानी को भड़काने के लिए उत्तरदायी हैं। उन्होंने कहा है कि शिनजियांग में हान चीनी लोगों की कम आबादी चिंता का विषय है।
मामले को लेकर चीनी विदेश मंत्रालय ने उइगर ट्रिब्यूनल पर अफवाहें फैलाने का आरोप लगाते हुए कहा है कि ट्रिब्यूनल की कोई लीगल स्टैंडिंग नहीं है। भले ही चीन विरोधी जोकर प्रदर्शन कर लें लेकिन चीन के शिनजियांग का विकास बेहतर से और बेहतर होगा।
ह्यूमन राइट्स एक्टिविस्ट्स सालों से यह कह रहे हैं कि चीन शिनजियांग में अल्पसंख्यक समुदाय के साथ क्रूर बर्ताव कर रहा है। कई रिपोर्ट्स भी ऐसा कहती हैं। लेकिन चीन सरकार ने इस सबसे लगातार इनकार किया है। रिपोर्ट्स के मुताबिक चीन ने लाखों उइगरों को नजरबंदी शिविरों में बंद रखा हुआ है।
-एजेंसियां

50% LikesVS
50% Dislikes

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *