हाईकोर्ट की खंडपीठ के लिए 22 जिलों के वकील मेरठ में जुटे, दो वकीलों को हार्ट अटैक

पश्चिम उत्तर प्रदेश में हाईकोर्ट खंडपीठ स्थापना की मांग को लेकर 22 जिलों के वकील शनिवार को मेरठ में जुटे। भाजपा की प्रदेश कार्यसमिति बैठक का विरोध करने जा रहे वकीलों का पुलिस से कई बार टकराव हुआ। वकीलों को रोकने पर हालात बेकाबू हो गए। वकीलों ने कई जगह रास्ता जाम कर केंद्र सरकार का पुतला फूंका। पुलिस अफसरों से खूब धक्का-मुक्की हुई। भाजपा के कार्यक्रम स्थल सुभारती विवि के गेट पर पुलिस से टकराव में कई वकीलों को चोट आई वहीं दो वकीलों को हार्ट अटैक आ गया। सुबह से दोपहर तक चले हंगामे के बावजूद पुलिस ने वकीलों को कार्यक्रम स्थल के भीतर नहीं घुसने दिया।
वकीलों ने नोएडा की बैठक में ऐलान किया था कि अगर उन्हें 10 अगस्त तक प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से मिलने का वक्त नहीं दिया गया तो वे मेरठ में 11-12 अगस्त को होने वाली भाजपा की प्रदेश कार्यसमिति बैठक का विरोध करेंगे। तय कार्यक्रम के मुताबिक शनिवार सुबह नौ बजे से ही मेरठ कचहरी परिसर के नानकचंद सभागार में वकील जुटने शुरू हो गए। यहां सिर्फ मेरठ और बागपत के वकील पहुंच पाए। सहारनपुर, मुजफ्फरनगर सहित कई जिलों के वकीलों को रास्ते में रोक लिया गया। वकील जैसे ही बाहर निकले तो उन्हें कचहरी गेट पर रोकने का प्रयास हुआ। वकील सभी सुरक्षा घेरों को तोड़ते हुए जुलूस के रूप में बेगमपुल तक पहुंच गए। यहां वकीलों ने रास्ता जाम कर दिया। केंद्र सरकार का पुतला फूंक दिया। पुलिस ने कुछ देर बाद सभी वकीलों को गिरफ्तार करते हुए पुलिस लाइन भेज दिया।
इधर मेरठ, बागपत सहित कई जिलों के वकील पुलिस को चकमा देकर सुभारती विश्वविद्यालय के उस गेट पर पहुंच गए जहां थोड़ी देर में मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ पहुंचने वाले थे। इससे पुलिस-प्रशासन के हाथ-पांव फूल गए। कमिश्नर अनिता मेश्राम, एडीजी प्रशांत कुमार, आईजी रामकुमार वर्मा सहित डीएम-एसएसपी गेट पर पहुंच गए। वकीलों को मनाने लगे पर वे नहीं माने। वरिष्ठ अधिवक्ता एमपी शर्मा पुलिस की हाथापाई में नीचे गिर गए, उन्हें चोटें आईं। वकील उग्र हुए तो पुलिस को भी सख्त रूप अपनाना पड़ा। कई वकीलों को पुलिस के डंडे भी लगे। हाथापाई में कई वकीलों के कपड़े तक फट गए। बाद में पुलिस ने सख्ती दिखाकर सभी वकीलों को बस में भरकर पुलिस लाइन भिजवा दिया।
-एजेंसियां

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Translate »