The Equator Line पत्रिका का ताज़ा संस्करण महात्मा गांधी को समर्पित

The Equator Line पत्रिका में चिपको आंदोलन के प्रणेता और गांधीवादी सुंदरलाल बहुगुणा और गांधी की पौत्री तारा गांधी भट्टाचार्य के साक्षात्कार भी हैं

कराची। ‘द इक्वेटर लाइन’ पत्रिका के हालिया प्रकाशित संस्करण में The Burden Of His Truth के ज़़रिए  विस्तार से बताया गया है कि पाकिस्तान में महात्मा गांधी से जुड़ी अधिकांश स्मृतियां समाप्त हो चुकी हैं और अब उनसे जुड़े बहुत कम ऐसे प्रतीक बचे हैं जो आजादी से पहले की यादों को ताजा करते हैं। इन्हीं में से एक कराची में 1934 में बापू द्वारा बनवाई गई कराची इंडियन मर्चेंट एसोसिएशन की आधारशिला है।

The Equator Line
The Equator Line

इस आधारशिला के बारे में ‘द इक्वेटर लाइन’ पत्रिका के हालिया प्रकाशित संस्करण में The Burden Of His Truth के ज़़रिए  विस्तार से बताया गया है। The Equator Line पत्रिका का यह संस्करण महात्मा गांधी को समर्पित है । The Equator Line पत्रिका में चिपको आंदोलन के प्रणेता और गांधीवादी सुंदरलाल बहुगुणा और गांधी की पौत्री तारा गांधी भट्टाचार्य के साक्षात्कार भी हैं।

कराची इंडियन मर्चेंट एसोसिएशन के प्रशासक ने इस आधारशिला के खिलाफ की जा रही बर्बरता को कई बार रोका और उसे बचाया। वहीं कई बार इसकी सफाई किए जाने के बाद अब जाकर इस आधारशिला को पारदर्शी कांच द्वारा ढंक दिया गया। इस आधारशिला की प्रशस्ति में लिखा है कि कराची इंडियन मर्चेंट एसोसिएशन की आधारशिला महात्मा गांधी द्वारा 8 जुलाई, 1934 को रखी गई थी।

पाकिस्तान में महिला स्वास्थ्य पर राष्ट्रीय फोरम के संस्थापक डॉ. शेरशाह सैयद ने फ्रेरे रोड पर इमारत के शीर्ष पर गांधी की विशाल प्रतिमा का जिक्र करते हुए कहा कि किसी समय गांधी की प्रतिमा को हटा दिया गया। वह ज्यादा दिन तक वहां नहीं रही। उन्होंने बताया कि गांधी की एक अन्य प्रतिमा कैंटोनमेंट रोड पर स्थित थी लेकिन उसे 1950 में हटा दिया गया।

सैयद के अनुसार कराची में म्यूनिसिपल पार्क को गांधी गार्डन के रूप में जाना जाता था, जिसे छोटी राजनीतिक और सामाजिक सभाओं के लिए उपयोग किया जाता था। यह जगह अपने नाम और स्थान से समाप्त हो गया। कराची के जूलॉजिकल गार्डन को गांधी गार्डन के नाम से जाना जाता था। लेकिन अब इसका आधिकारिक नाम कराची जूलॉजिकल गार्डन कर दिया गया है।
-एजेंसी

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Translate »