जीएल बजाज में छात्रों ने किया वृहद Plantation

जीएल बजाज के परिसर में नवागत छात्र-छात्राओें ने 50 पौधों का Plantation कर देखभाल का भी लिया संकल्प

मथुरा। जीएल बजाज महाविद्यालय परिसर में नवागत छात्र-छात्राओें ने सभी की मौजूदगी में 50 पौधों का रोपण किया। उन्होंने पौधांे की देखभाल का भी संकल्प लिया।

संस्थान के निदेशक डा. एलके त्यागी ने इस मौके पर कहा कि पर्यावरण और भूमि संरक्षण के लिए Plantation जरूरी है। पौधारोपण कर पर्यावरण को बचाने का संकल्प हम सभी को लेने की जरूरत है। हमारा कर्तव्य है कि पर्यावरण सुधार के लिए अधिक से अधिक संख्या में पौधरोपण करें।

वर्तमान समय में पौधारोपण करने के साथ-साथ इसकी रक्षा करने की भी जिम्मेवारी हम सभी पर है। उन्होंने सभी से आह्वान करते हुए कहा कि जितने भी पौधे लगाएं उनकी रक्षा करना भी हमारा परम कर्तव्य है।

महाविद्यालय के निदेशक डा. एलके त्यागी ने आगे कहा कि हम सभी यह तय करें कि हर अनुष्ठान में अपने आसपास पेड़ पौधे लगाएं। उन्होंने कहा कि पर्यावरण संतुलन के लिए वृक्षारोपण बेहद जरूरी है। साथ ही साथ सभी लोग संकल्प लें कि अपने दैनिक जीवन में अधिक से अधिक वृक्षारोपण करेंगे।

आरके एजुकेशन हब के चैयरमेन डा. रामकिशोर अग्रवाल, वाइस चैयरमेन पंकज अग्रवाल और एमडी मनोज अग्रवाल ने कहा-पौधे होते हैं धरा का आभूषण

इस मौके पर महाविद्यालय के निदेशक डा. एलके त्यागी, सभी विभाग के विभागाध्यक्षगण जिनमें प्रो. मनधीर वर्मा, प्रो. अंकुर संक्सेना, प्रो. नितिन कुमार साहू, प्रो. उदयवीर सिंह, प्रो. विमल गुप्ता व प्रो. गजल सिंह साथ ही महाविद्यालय में अध्ययनरत प्रथम वर्ष के छात्र छात्राएं मौजूद रहे।

आरके एजुकेशन हब के चैयरमेन डा. रामकिशोर अग्रवाल, वाइस चैयरमेन पंकज अग्रवाल और एमडी मनोज अग्रवाल ने कहा कि पेड-पौधे धरा का आभूषण होते हैं। हमंे पर्यावरण संतुलन बनाए रखने के लिए भी संभालकर रखना होगा। पेड-पौधों की कटाई के कारण भी ‘ग्लोबल वार्मिंग‘ हो रही है।

आरके एजुकेशन हब के सभी संस्थानों को Plantation कर अपने दायित्व की पूर्ति करनी चाहिए। जैसा कि जीएल बजाज ग्रुप आफ इंस्टीटयूशंस ने कर दिखाया है। हम सभी का कर्तव्य बनता है कि वनों की रक्षा करें। साथ ही साथ पेड़ पौधे लगाने का संदेश दूसरों को भी दें। दूसरे साथियों को प्रेरित करें। ताकि आने वाले पीढ़ी को पर्यावरणीय दृष्टि से तकलीफ ना हो।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Translate »