तेज सेना बनाने जा रहे हैं लालू पुत्र तेज प्रताप यादव

पटना। राष्ट्रीय जनता दल (आरजेडी) के अध्यक्ष लालू प्रसाद यादव के बड़े बेटे तेज प्रताप यादव के बागी सुर बरकरार हैं। लोकसभा चुनाव के दौरान महागठबंधन में टिकट बंटवारे पर नाराजगी जताते हुए तेज प्रताप ने लालू-राबड़ी मोर्चे का ऐलान किया था। अब तेज प्रताप अपने नाम से तेज सेना बनाने जा रहे हैं। इसके लिए बाकायदा सोशल मीडिया के जरिए अपील भी की गई है।
तेज प्रताप ने अपने आधिकारिक फेसबुक और इंस्टाग्राम अकाउंट से तेज सेना की लॉन्चिंग के बारे में जानकारी दी है। इसमें समर्थकों से अपील करते हुए कहा गया है, ‘बदलाव के लिए तेज सेना में शामिल हों। बदलाव की इच्छा रखने वालों के लिए एक ऑनलाइन प्लेटफॉर्म 28 जून को लॉन्च हो रहा है।’
अपील में तेज की तस्वीर के साथ लालटेन
अपील में तेज प्रताप की तस्वीर के साथ आरजेडी के चुनाव निशान लालटेन को भी जगह दी गई है। इसके अलावा एक मोबाइल नंबर जारी करते हुए लॉन्चिंग का वक्त 28 जून की सुबह 10.30 बजे रखा गया है। दरअसल, आरजेडी में सबकुछ ठीक नहीं चल रहा है। इससे पहले कई मौकों पर तेज प्रताप नाराजगी का इजहार कर चुके हैं।
लोकसभा चुनाव के दौरान बनाया लालू-राबड़ी मोर्चा
लोकसभा चुनाव के मतदान से पहले एक अप्रैल को तेज प्रताप ने लालू-राबड़ी मोर्चा बनाया था। वह अपने ससुर चंद्रिका राय को सारण सीट से उतारे जाने पर नाराज थे। तेजस्वी से बातचीत पर तेज ने कहा था, ‘कृष्ण की बात अर्जुन मानते हैं न। महागठबंधन की जब प्रेस कॉन्फ्रेंस थी तो उससे पहले बातचीत हुई। अभी तक कोई रिस्पॉन्स नहीं आया। तारीख पर तारीख आ रही है। रही बात पार्टी की तो क्या कार्यवाही करेगी मेरे खिलाफ, सीधी सी बात है जनता को अनसुना नहीं करना है। हम जो भी हैं वह जनता की बदौलत हैं।’
राहुल की रैली में नहीं मिला था बोलने का मौका
इसके साथ ही पाटलिपुत्र लोकसभा क्षेत्र में राहुल गांधी की एक रैली के दौरान मंच से बोलने का मौका नहीं मिलने पर तेज प्रताप ने नाराजगी जताई थी। 16 मई को राहुल गांधी पाटलिपुत्र लोकसभा क्षेत्र में एक चुनावी जनसभा को संबोधित करने पहुंचे। इस दौरान राहुल ने आरजेडी प्रत्याशी मीसा भारती के पक्ष में लोगों से वोट देने की अपील की। तेज प्रताप ने सभा के बाद पत्रकारों से कहा, ‘राहुल गांधी ने खुद कहा था कि मुझे भी भाषण देना है। मैंने अपनी इच्छा से कांग्रेस के प्रदेश अध्यक्ष मदन मोहन झा को भी अवगत कराया लेकिन मौका नहीं दिया गया।’
इस दौरान मंच पर राहुल गांधी के एक तरफ विधानसभा में विपक्ष के नेता तेजस्वी यादव और दूसरी तरफ पूर्व स्वास्थ्य मंत्री तेज प्रताप यादव बैठे। जनसभा को तेजस्वी यादव ने भी संबोधित किया लेकिन तेज प्रताप को मौका नहीं मिला। इसके अलावा जहानाबाद लोकसभा सीट पर तेज ने आरजेडी के अधिकृत प्रत्याशी के मुकाबले अपने ‘लालू-राबड़ी मोर्चा’ के उम्मीदवार को उतारा था।
-एजेंसियां

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Translate »