लखीमपुर हिंसा केस: SC का पुलिस को निर्देश, और चश्‍मदीदों की तलाश करे

नई दिल्‍ली। लखीमपुर हिंसा मामले में सुप्रीम कोर्ट ने एक बार फिर उत्‍तर प्रदेश सरकार को आड़े हाथों लिया है। मंगलवार को सुनवाई के दौरान अदालत ने चश्‍मदीद गवाहों को सुरक्षा मुहैया कराने के निर्देश दिए हैं। यूपी पुलिस को निर्देश में अदालत ने कहा कि वह और चश्‍मदीदों की तलाश करे। कोर्ट ने केवल 23 गवाहों की जानकारी दिए जाने पर भी हैरानी जताई। चीफ जस्टिस एनवी रमना की अगुवाई वाली बेंच ने अदालत से पूछा कि ‘चार से पांच हजार लोग मौके पर थे…ये आश्चर्य है कि सिर्फ 20 के बयान मैजिस्ट्रेट के सामने रेकॉर्ड हुए?’
पहचान करना मुश्किल नहीं: कोर्ट
कोर्ट ने मंगलवार को कहा कि चश्मदीद गवाहों का बयान मैजिस्ट्रेट के सामने रिकॉर्ड किया जाए। यूपी सरकार के वकील हरीश साल्वे ने जब कहा कि मौके पर कई साक्ष्य हैं और मीडिया एविडेंस है तो जस्टिस सूर्यकांत ने काउंटर करते हुए टिप्‍पणी की कि जब मौके पर पांच हजार के करीब आदमी थे और वह लोकल हैं तो फिर ऐसे लोगों की पहचान मुश्किल नहीं होनी चाहिए। कोर्ट ने कहा क‍ि लोगों ने कार देखी और उसमें जो लोग थे, उन्‍हें भी देखा है।
अदालत ने पुलिस से कहा कि आपके जो भी गवाह हैं, उसके अलावा भी बाकी गवाहों की तलाश करें। कोर्ट ने कहा कि ‘चश्मदीद गवाह हमेशा ज्यादा पुख्ता सबूत होते हैं।’ साल्‍वे ने कोर्ट से कहा कि यूपी सरकार मामले में गवाहों के बयान एक सीलंबद लिफाफे में सामने रख सकती है।
दो अन्‍य हत्‍याओं पर भी मांगा जवाब
सुप्रीम कोर्ट ने उत्‍तर प्रदेश सरकार से हिंसा के दौरान रमन कश्‍यप नाम के पत्रकार और श्‍याम सुंदर नाम के शख्‍स की मौत की जांच पर अपडेट भी मांगा है। कोर्ट ने फोरेंसिक लैब्‍स से हिंसा के वीडियोज से जुड़ीं रिपोर्ट्स जल्‍द सबमिट करने को कहा है।
किसानों को कार से कुचला गया था
केंद्रीय मंत्री अजय मिश्रा टेनी के बेटे आशीष मिश्रा इस पूरे मामले के मुख्‍य आरोपी हैं। उन्‍हें लखीमपुर खीरी के तिकुनिया में किसानों का विरोध करने पर कथित तौर पर अपनी कार चलाने के बाद भड़की हिंसा के सिलसिले में गिरफ्तार किया गया था। लखीमपुर खीरी में एक एसयूवी ने चार किसानों को कुचल दिया था, जब केंद्र के तीन नए कृषि कानूनों के खिलाफ आंदोलन कर रहे एक समूह ने यूपी के उपमुख्यमंत्री केशव प्रसाद मौर्य की यात्रा के खिलाफ 3 अक्टूबर को प्रदर्शन किया था।
-एजेंसियां

50% LikesVS
50% Dislikes

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *