गोपाल राय के आरोप पर कुमार विश्‍वास का जवाब: गोपाल राय को बताया कटप्‍पा

दिल्ली से राज्यसभा की तीन सीटों पर टिकट बंटवारे के बाद आम आदमी पार्टी में घमासान जारी है.
पार्टी के वरिष्ठ नेता गोपाल राय की ओर से आरोप लगाया गया कि पार्टी नेता कुमार विश्वास ने दिल्ली सरकार को गिराने की कोशिश की थी.
जवाब में कुमार विश्वास ने गोपाल राय को पार्टी का कटप्पा बताते हुए कहा कि इस माहिष्मति साम्राज्य की शिवगामी देवी कोई और है.
वह यहां मशहूर फिल्म ‘बाहुबली’ के किरदारों के ज़रिये आरोप लगा रहे थे. फिल्म में कटप्पा माहिष्मति साम्राज्य का वफ़ादार सेनापति है जो शिवगामी देवी के हर आदेश का पालन करता है.
कुमार विश्वास ने अपने बयान में कहा, ”दिल्ली के विधायक और मंत्री गोपाल राय की आज सात महीने बाद कुंभकर्णीय नींद जागी है, पार्टी ने उनके बयान से किनारा कर लिया है.”
”दरअसल इस माहिष्मति की शिवगामी देवी कोई और है, हर बार नए कटप्पा पैदा किए जाते हैं. मेरा उनसे अनुरोध है कि नए-नए कांग्रेस और भाजपा से आए हुए जो ‘गुप्ताज़’ हैं उनके योगदान का कुछ दिन आनंद लें.”
दरअसल आम आदमी पार्टी ने राज्यसभा भेजे जाने के लिए संजय सिंह, सुशील गुप्ता और एनडी गुप्ता के नाम तय किए हैं लेकिन आंदोलन से शुरू से जुड़े रहे अपने नेताओं की अनदेखी करके ‘बाहरी गुप्ताओं’ को चुनने के लिए पार्टी की आलोचना भी हो रही है.
सबसे अधिक विवाद कुछ वक्त पहले ही कांग्रेस छोड़क पार्टी में आए सुशील गुप्ता के नाम पर है. कुमार विश्वास भी अपनी अनदेखी किए जाने से नाराज़ हैं.
उन्होंने कहा, ”अब मेरे शव के साथ छेड़छाड़ न करें, पिछली बार बाबरपुर में रैलियां करके मैं उन्हें (गोपाल राय) जितवाने गया था, इस बार सुशील गुप्ता जी की रैली कराएं, वहां से सांसद बनें, प्रधानमंत्री बनें.
इससे पहले गुरुवार को गोपाल राय ने फेसबुक लाइव के ज़रिए कुमार विश्वास पर पार्टी के ख़िलाफ़ काम करने के आरोप लगाए थे.
उन्होंने कहा, ”जब पार्टी जीतकर दिल्ली की सत्ता में आई तो हमने राज्यसभा जाने वाले नामों पर विचार किया था, इन नामों में सबसे पहला नाम कुमार विश्वास का ही था, यह बात उन्हें बता भी दी गई थी.”
”लेकिन एमसीडी चुनाव के बाद जिस तरह सरकार को गिराने के लिए षड्यंत्र रचा गया, उन्हीं चुनावों के दौरान कुमार विश्वास ने एक वीडियो जारी कर अरविंद केजरीवाल पर हमला किया.”
गोपाल राय ने आरोप लगाया कि पार्टी को लगातार गिराने की साजिशों के केंद्र में कुमार विश्वास थे.
कुमार विश्वास की पार्टी नेतृत्व से तनातनी अब साफ है. लेकिन अब तक उन्होंने पार्टी नहीं छोड़ी है और न ही पार्टी ने उन्हें निष्कासित किया है.
-BBC