कोलकाता के मुस्‍लिमों ने ममता को लिखा खत, हम दुखी और शर्मिंदा हैं

कोलकाता। कोलकाता में मुस्लिम समुदाय के 46 प्रतिष्ठित नागरिकों ने मुख्यमंत्री ममता बनर्जी को एक खत लिखा है। इसमें अपील की गई है कि मुस्लिम समुदाय के उन लोगों पर सख्त कार्यवाही हो, जो आपराधिक मामलों में शामिल हैं।
उनका कहना है कि ऐसा कदम उठाने से मुस्लिमों के तुष्टीकरण और संरक्षण जैसे आरोपों से छुटकारा पाया जा सकेगा। कोलकाता में दशकों से जिंदगी गुजार रहे अलग-अलग क्षेत्र के प्रतिष्ठित मुस्लिम नागरिकों ने हाल ही में शहर में हुई दो घटनाओं का हवाला देते हुए अपील जारी की है।
मुस्लिम समुदाय के प्रतिष्ठित नागरिकों ने पिछले सोमवार को एनआरएस मेडिकल कॉलेज में हिंसा के अलावा इस सोमवार को पूर्व मिस इंडिया और मॉडल उशोषी सेनगुप्ता और उनके कैब ड्राइवर से मारपीट के मामले का जिक्र किया। इन दोनों मामलों में वारदात के 24 घंटे के अंदर आरोपियों की गिरफ्तारी हो गई।
‘इसलिए न बच जाएं कि मुस्लिम हैं’
कोलकाता में मुस्लिम समुदाय के 46 प्रतिष्ठित नागरिकों ने खत में लिखा है, ‘दोनों ही मामलों में हमलावर हमारे समुदाय के थे। हम इससे दुखी और शर्मिंदा हैं। हमलावरों पर सिर्फ इन दो मामलों में ही नहीं बल्कि ऐसे हर मामलों में सख्त कार्यवाही की जाए, जिसमें कोई मुस्लिम शामिल हो। वे केवल इसलिए नहीं बच जाने चाहिए कि वे मुस्लिम हैं (ऐसी धारणा बढ़ रही है)। इससे समाज के बीच संदेश जाएगा कि किसी एक समुदाय के लोगों का बचाव और तुष्टीकरण नहीं किया जा रहा है (ज्यादातर लोग मानते हैं)।’
इसके साथ ही मुस्लिम समाज के प्रतिष्ठित नागरिकों ने ममता सरकार से अपील की है कि कोलकता के इलाकों में मुस्लिम युवाओं और उनके परिवारों के बीच लैंगिक संवेदनशीलता, नागरिक चेतना और कानून का पालन करने के लिए अभियान चलाते हुए उनसे जुड़ा जाए। इसके साथ ही उन्हें प्रोत्साहित भी किया जाना चाहिए। खत में कहा गया है, ‘ऐसा करने के लिए लंबे धैर्य की जरूरत है लेकिन इसे फौरन लागू किया जाना चाहिए।’
क्यों हुई थी डॉक्टरों की हड़ताल?
कोलकाता के एनआरएस मेडिकल कॉलेज ऐंड हॉस्पिटल में 10 जून को एक मरीज की मौत के बाद भीड़ ने डॉक्टरों पर हमला कर दिया था। इसके अगले दिन से अस्पताल में सुरक्षा बढ़ाने समेत कई मांगों को लेकर रेजिडेंट डॉक्टर हड़ताल पर चले गए थे। बाद में इस हड़ताल को इंडियन मेडिकल एसोसिएशन (आईएमए), दिल्ली मेडिकल एसोसिएशन (डीएमए) और दूसरे राज्यों से भी समर्थन मिला था। इस दौरान दिल्ली के एम्स और सफदरजंग जैसे अस्पतालों में भी रेजिडेंट डॉक्टरों ने हड़ताल की थी। डॉक्टरों की हड़ताल से देशभर में स्वास्थ्य सेवाएं चरमरा गई थीं। 17 जून को ममता बनर्जी और डॉक्टरों के प्रतिनिधियों से बातचीत के बाद डॉक्टरों ने हड़ताल खत्म करने का ऐलान किया था।
मॉडल पर हमले का मामला
कोलकाता में पूर्व मिस इंडिया यूनिवर्स और मॉडल से ऐक्टर बनीं उशोषी सेनगुप्ता से सरेराह बदसलूकी और हमले का सनसनीखेज मामला सामने आया था। यह घटना सोमवार की रात लगभग 11 बजकर 40 मिनट पर हुई थी। सेनगुप्ता द्वारा ली गई तस्वीरों और सीसीटीवी फुटेज के आधार पर पुलिस ने सात आरोपियों को गिरफ्तार किया था। उशोषी ने फेसबुक के जरिए हमले का विडियो और तस्वीरें शेयर की थीं। सेनगुप्ता का दावा है कि वह एक ऐप बेस्ड कैब से अपनी एक सहकर्मी के साथ घर लौट रही थीं। इसी दौरान उनकी कार को बाइक सवार युवकों ने टक्कर मार दी और वे कार के ड्राइवर को बाहर निकालकर उन्हें पीटने लगे। यही नहीं, जब वह अपने दोस्त के घर पहुंचीं तो एक बार फिर हमलावर वहां पहुंच गए और उनको कार से उतारकर अभद्रता की।
-एजेंसियां

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Translate »