खरीदीने से पहले जान लें, सोना कितना सोना है

धनतेरस पर आप भी सोना खरीदने की तैयारी में होंगे। सोना एक मूल्यवान धातु है और इसलिए इसकी खरीदारी में धोखे की संभावना भी काफी अधिक होती है इसलिए सोने की क्वॉलिटी की पहचान और इससे जुड़ी अहम बातों की जानकारी रखना जरूरी है।
कैरट से शुद्धता की माप
सोने का मूल्य उसकी शुद्धता से निर्धारित होता है, जिसे कैरट में मापा जाता है। सोने का शुद्ध रूप 24 कैरट (99.99 प्रतिशत) होता है। हालांकि, 24 कैरट सोना नरम होता है और उसका आकार बिगड़ सकता है। मजबूती और डिजाइनिंग के लिए उसमें अन्य धातुओं को मिलाया जाता है। कैरट जितना अधिक होगा, सोने का आभूषण उतना ही महंगा होगा।
24 कैरट सोना
यह शुद्ध सोना है और संकेत देता है कि सभी 24 भाग शुद्ध हैं और इसमें अन्य धातुएं नहीं मिली हैं। इसका रंग स्पष्ट रूप से उज्ज्वल पीला होता है और यह अन्य किस्मों की तुलना में अधिक महंगा होता है। ज्यादातर, लोग इतने कैरट के सोने को सिक्कों या बार के रूप में खरीदना पसंद करते हैं।
22 कैरट सोना
इसका मतलब है कि आभूषण में 22 भाग सोना है और शेष 2 भाग में अन्य धातुएं हैं। इस प्रकार का सोना आभूषण बनाने में प्रयोग किया जाता है क्योंकि यह 24 कैरट सोने से अधिक कठोर होता है। हालांकि, नगों से जड़े आभूषणों के लिए 22 कैरट सोने को प्राथमिकता नहीं दी जाती है।
18 कैरट सोना
यह श्रेणी 75 प्रतिशत सोना और 25 प्रतिशत तांबा और चांदी वाली होती है। यह बाकी दो श्रेणियों की तुलना में कम महंगी है और इसका इस्तेमाल स्टड और हीरे के आभूषण बनाने में किया जाता है। इसका रंग हल्का पीला होता है। सोने का प्रतिशत कम होने के कारण, यह 22 या 24 कैरट श्रेणियों की तुलना में मजबूत होता है।
14 कैरट सोना
यह श्रेणी 58.5 प्रतिशत शुद्ध सोने और शेष अन्य धातुओं की होती है। यह भारत में अधिक चलन में नहीं है।
आभूषण बनाते समय मिश्र धातु की संरचना को बदलकर सोने को अन्य रंग भी दिए जा सकते हैं। कुछ रंग इस प्रकार हैं।
गुलाबी सोना
मिश्र धातु संरचना में अधिक तांबा जोड़कर गुलाबी सोना बनता है।
हरा सोना
मिश्र धातु संरचना में अधिक जस्ता और चांदी जोड़कर बनाया जाता है।
सफेद सोना
मिश्र धातु संरचना में निकल या पैलेडियम जोड़कर बनाया जाता है।
शुद्धता का निशान
हॉलमार्क्ड आभूषण वे हैं, जिनमें सोने की मात्रा का मूल्यांकन किया गया हो और शुद्धता के अंतर्राष्ट्रीय मानकों का पालन किया गया हो। यह मार्क भारतीय मानक ब्यूरो (बीआईएस) द्वारा दिया जाता है। बीआईएस हॉलमार्क के विभिन्न भाग इस प्रकार हैं। बीआईएस स्टेंडर्ड मार्क का लोगो। फिनेस मार्क जो सोने के कैरट को दर्शाता है। यह 1000 भागों में सोने की मात्रा को प्रदर्शित करता है। उदाहरण के लिए, 750 का अर्थ है 18 कैरेट सोना।
-एजेंसियां

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Translate »