केरल: नन से रेप के मामले में पुलिस ने कहा, बिशप ने रेप किया

कोच्चि। केरल की नन से रेप के मामले में पुलिस के हलफनामे से साफ हो गया है कि बिशप ने पीड़िता का रेप किया था। मेडिकल रिपोर्ट के मुताबिक बिशप ने कई बार पीड़िता नन का रेप किया था। पीड़िता ने आरोपी बिशप फ्रैंको मुलक्कल के खिलाफ अब भारत में वेटिकन के प्रतिनिधि जियामबटिस्टा दिक्वात्रो को पत्र लिखकर मामले की तेजी से जांच कराने और बिशप फ्रैंको को पद से हटाने की गुहार लगाई है।
8 सितंबर 2018 को लिखे गए सात पेजों के पत्र में काफी विस्तृत और भावुक तरीके से नन से अपनी आपबीती लिखी है। मंगलवार को मीडिया के सामने जारी किए गए पत्र में नन ने लिखा है, ‘कैथलिक चर्च सिर्फ बिशपों और पादरियों की चिंता करता है। हम जानना चाहते हैं कि क्या कैनन कानून में महिलाओं और ननों को न्याय का कोई प्रावधान है?’
नन ने पूछा- ‘जो खोया, उसे चर्च वापस दे पाएगा?’
पत्र में नन ने लिखा है, ‘चर्च की चुप्पी मुझे अपमानित महसूस करा रही है।’ नन ने पूछा है कि क्या चर्च उन्हें वह लौटा सकता है, जो उन्होंने खोया है। नन ने इस पत्र में बताया है कि कब-कब उन्हें शिकार बनाया गया और कैसे उन्हें और उनके समर्थकों को चुप कराने की कोशिशें की गईं। गौरतलब है कि पहले भी बिशप पर नन और उनके समर्थकों को पैसे और संपत्ति देकर मामले को दबाने की बात सामने आई थी। चौंकाने वाली बात यह है कि अपने इस खत में उन्होंने आरोप लगाया है कि बिशप ने पहले दूसरी नन्स के साथ भी ऐसा व्यवहार किया है।
वहीं दूसरी ओर जालंधर के बिशप फ्रैंको मुलक्कल पर रेप का आरोप लगाने वाली नन, उनके परिवार सहित कई ननों ने बिशप की गिरफ्तारी की मांग तेज कर दी है। पीड़‍ित नन और पर‍िजनों के समर्थन में जॉइंट क्रिस्चन काउंसिल भी आगे आया है। काउंस‍िल ने शन‍िवार से आरोपी ब‍िशप को पकड़ने की मांग को लेकर प्रदर्शन शुरू कर द‍िया था, जो मंगलवार को भी जारी रहा। विरोध प्रदर्शन कर रहे लोगों ने ब‍िशप को तुंरत ग‍िरफ्तार करने की मांग की है।
रेप मामले में हाई कोर्ट का कड़ा रुख
आपको बता दें कि नन से बलात्कार मामले में केरल हाई कोर्ट ने सोमवार को कड़ा रुख दिखाया था। पीठ ने केरल सरकार से इस संबंध में गठित एसआईटी द्वारा उठाए गए कदमों के बारे में जानकारी देने को कहा है। कोर्ट ने सरकार से यह भू पूछा है कि पीड़िता और उसके समर्थन में आई ननों की सुरक्षा के लिए उनकी ओर से क्या किया गया है।
-एजेंसियां

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Translate »