भयानक सूखे की मार झेल रहा है केन्या, सड़कों पर दिखीं जानवरों की लाशें

अफ्रीकी देश केन्या इस वक्त भयानक सूखे की मार झेल रहा है। लंबे सूखे के घातक परिणाम अब जमीन पर दिखने लगे हैं। देश से चिलचिलाती धूप में तड़पते और जान गंवाते जानवरों की तस्वीरें आ रही हैं। अब यहां के ग्रामीण इलाकों के लोग आपदा की कगार पर खड़े हैं। सितंबर के बाद से केन्या के ज्यादातर उत्तरी इलाके में सामान्य से 30 फीसदी से भी कम वर्षा हुई है। यह दशकों में दर्ज बारिश का सबसे खराब स्तर है।
फैमिन अर्ली वार्निंग सिस्टम्स नेटवर्क की रिपोर्ट में इसकी जानकारी दी गई है। बारिश की कमी से चारागाह खत्म हो चुके हैं और भारी मात्रा में भोजन और पानी की कमी हो चुकी है। लोगों ने अपने आधे से ज्यादा मवेशियों को खो दिया है। जो बचे हैं वे इतने कमजोर हो चुके हैं कि अब दूध नहीं दे सकते और इतने दुबले हैं कि अब उन्हें बेचा नहीं जा सकता। उनका कहना है, ‘अब कोई इन्हें नहीं खरीदेगा।’
पानी की तलाश में कमजोर हुए जानवर
एक स्थानीय निवासी ने बताया कि पिछले चार महीनों में एक गाय की कीमत लगभग 357 डॉलर से गिरकर 45 डॉलर हो गई है। सूखे से प्रभावित लोगों के पास भोजन के रूप में कई बार सिर्फ मक्का रहता है। पानी खोजने की दूरी बढ़ने उनके जानवर बेहद कमजोर हो चुके हैं। अगर साल के आखिर तक बारिश नहीं होती है तो विशेषज्ञों का अनुमान है कि यह दिसंबर 2020 के बाद से लगातार तीसरा सबसे खराब बारिश का मौसम होगा।
पहले जानवर फिर हम सब मर जाएंगे
अल जजीरा की रिपोर्ट के मुताबिक बेनाने गांव में एडन गिधायेस और उनके बड़े परिवार को पहले से ही पता है कि कल का भोजन क्या होगा। सुबह बच्चों के लिए मक्का और शाम को वही जानवरों के लिए। गिधायेस कहते हैं कि अगर बारिश नहीं हुई तो हमारे जानवर मर जाएंगे और फिर हम सब मर जाएंगे। विश्व मौसम विज्ञान संगठन के अनुसार, 2020 को अफ्रीका में अब तक का तीसरा सबसे गर्म वर्ष दर्ज किया गया है। अनुमान है कि 2050 तक तापमान 2.5 डिग्री सेल्सियस तक बढ़ सकता है।
-एजेंसियां

50% LikesVS
50% Dislikes

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *