के. डी. हॉस्‍पिटल के डाक्टरों ने implant किया युवक का कूल्हा

मथुरा। के. डी. मेडिकल कॉलेज-हॉस्‍पिटल एण्ड रिसर्च सेण्टर के विशेषज्ञ चिकित्सकों की टीम ने लगभग 22 साल से लाचारी का जीवन जी रहे शाहिद के सम्पूर्ण कूल्हे को implant कर उसे उसके पैरों पर खड़ा करने में सफलता हासिल की।

ज्ञातव्य है कि कोई 22 साल पहले दुर्घटना में लगी चोट के चलते तथा सही उपचार न होने के कारण पुन्हाना, हरियाणा निवासी शाहिद का कूल्हा खराब होकर अपनी जगह छोड़ दूसरी जगह पहुंच गया था। इस समस्या के चलते शाहिद चलने-फिरने में असमर्थ हो गया। अपने इलाज के लिए वह दिल्ली, आगरा, भरतपुर, जयपुर आदि शहरों में चिकित्सकों से मिला लेकिन कहीं खर्च अधिक होने तो कहीं व्यवस्थाएं ठीक न होने के चलते वह अपना इलाज नहीं करा सका। ऐसे में उसे के. डी. मेडिकल कॉलेज-हॉस्‍पिटल एण्ड रिसर्च सेण्टर के हड्डी रोग विशेषज्ञ डा. हर्षित जैन के बारे में पता चला। शाहिद अपने परिजनों के साथ डा. हर्षित जैन से मिला और अपनी समस्या से अवगत कराया।

के. डी. मेडिकल कॉलेज-हॉस्‍पिटल एण्ड रिसर्च सेण्टर में शाहिद का एक्सरे और महत्वपूर्ण जांचें कराने के बाद पता चला कि शाहिद डिसप्लास्टिक हिप नामक बीमारी से ग्रसित है, जिसके चलते न केवल उसका कूल्हा खराब हो गया है बल्कि उसने अपनी कटोरी को छोड़ ऊपर दूसरी कटोरी में जगह बना ली है जिससे पैर भी छोटा हो गया और उस पर वजन नहीं आ पाता था। विभिन्न जांचों का अवलोकन करने के बाद आखिरकार डाक्टरों की टीम ने शाहिद के सम्पूर्ण कूल्हे को implant कर बदलने का निर्णय लिया।

डा. हर्षित जैन, डा. प्रतीक अग्रवाल, डा. हेमराज और निश्चेतना विशेषज्ञ डा. निझावन, डा. सुप्रिया व टेक्नीशियन पवन, प्रदीप, शाहरुख की टीम ने कई घण्टे की मशक्कत के बाद आपरेशन द्वारा शाहिद के सम्पूर्ण कूल्हे को implant करने में सफलता हासिल की। डा. हर्षित जैन का कहना है कि यह सर्जरी काफी जटिल थी तथा इस प्रकार की सर्जरी मथुरा ही नहीं ब्रज क्षेत्र में पहली बार हुई है। शाहिद अब पूरी तरह से ठीक है तथा वह अपने पैरों पर चलने में सक्षम है। सफल आपरेशन के लिए शाहिद ने के. डी. मेडिकल कॉलेज-हॉस्‍पिटल एण्ड रिसर्च सेण्टर के डाक्टरों का आभार माना है। आर.के. एजुकेशन हब के चेयरमैन डा. रामकिशोर अग्रवाल, प्रबंध निदेशक मनोज अग्रवाल और प्राचार्य डा. मंजू नवानी ने शाहिद की दुर्लभ सर्जरी के लिए डाक्टरों की टीम को बधाई दी है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Translate »