सुभाष घई के खिलाफ Kate Sharma ने सेक्शुअल हैरेसमेंट का केस वापस लिया

#MeToo कैंपेन के तहत Kate Sharma ने घई पर सेक्शुअल हैरेसमेंट का आरोप लगाते हुए पुलिस में शिकायत दर्ज कराई थी

मुंबई। फिल्म निर्माता सुभाष घई के खिलाफ मॉडल और एक्ट्रेस Kate Sharma ने यौन शोषण का मामला दर्ज कराने के बाद वापस ले लिया है। गौरतलब है कि कुछ समय पहले Kate Sharma ने #MeToo कैंपेन के तहत घई पर यौन दुर्व्यवहार और शोषण का आरोप लगाते हुए पुलिस में शिकायत दर्ज कराई थी। केट शर्मा ने पुलिसवालों को लिखा है कि जिस तरह से उनके मामले को देखा जा रहा है उससे वह थक गई हैं लिहाजा वे अपनी बीमार मां का ख्याल रखना चाहती हैं और इस केस में इधर-उधर धक्के खाना नहीं चाहतीं।

उन्होंने कहा कि #metoo कैम्पेन का मजाक बनाया जा रहा है क्योंकि इतने आरोपों के बाद भी एक भी आरोपी गिरफ्तार नहीं हुआ। पुलिस सिर्फ मामला दर्ज करने में व्यस्त है। एक्ट्रेस ने कहा कि जब उन्होंने सबकुछ सोशल मीडिया पर कह दिया फिर भी मुंबई पुलिस उनसे यही पूछ रही थी कि क्या वे मामला दर्ज कराना चाहती हैं। शर्मा का कहना है कि वह अपनी बीमार मां की देखभाल करना चाहती हैं और उनका परिवार फिल्म निर्माता पर यौन शोषण के आरोप लगाने के बाद से थोड़ा परेशान है।

केस वापस लेने के अपने दूसरे कारणों के बारे में शर्मा ने कहा कि लोग पूरे मी टू अभियान का मजाक बना रहे हैं। कुछ नहीं हुआ, कोई गिरफ्तार नहीं हुआ। यदि पुलिसवाले केवल एफआईआर दर्ज करने में व्यस्त रहेंगे तो इस पूरे अभियान का क्या फायदा है?

मीटू कैम्पेन के तहत फिल्ममेकर सुभाष घई पर सेक्शुअल हैरेसमेंट का आरोप लगाने वाली एक्ट्रेस केट शर्मा ने अपनी शिकायत वापस ले ली है। केट ने मुंबई पुलिस से कहा है कि वो केस को आगे नहीं बढ़ाना चाहतीं।

जबरदस्ती किस करने का आरोप
केट के मुताबिक सुभाष घई ने उन्हें बर्थडे पार्टी में बुलाया था। केक काटने के बाद सुभाष ने सबके सामने केट को बॉडी मसाज देने के लिए कहा। इसके बाद सुभाष ने एक कमरे में बात करने के लिए उन्हें बुलाया और जबरदस्ती किस करने की कोशिश करने लगे।

एक अन्य महिला ने भी लगाए थे इल्जाम
सुभाष घई पर एक अन्य महिला ने भी रेप का आरोप लगाया है। महिमा कुकरेजा ने एक महिला (जिसने अपना नाम नहीं बताया) के मैसेज शेयर किए हैं। इसमें उसने सुभाष घई पर शराब में ड्रग्स मिलाकर रेप करने का आरोप लगाया है। महिला का दावा है कि वह सुभाष घई के साथ काम करती थी।

सुभाष घई का जवाब
इस मामले पर सुभाष घई ने सफाई देते हुए ट्वीट किया था कि मैं निश्चित रूप से #METOO कैम्पेन में महिलाओं का समर्थक हूं लेकिन अनुचित लाभ लेने वाले लोग शॉर्ट टाइम में इस फेम को हजम नहीं कर पाएंगे। लोग मेरी प्रतिष्ठा को ठेस पहुंचाने की कोशिश कर रहे हैं। अब मेरे वकील इस मामले को देखेंगे। इसके पहले वाले मामले में अपना नाम उछाले जाने पर सुभाष घई ने 12 अक्टूबर को ट्वीट कर लिखा था कि #MeToo फैशन बन गया है। मुझे इस आंदोलन में अपना नाम जोड़े जाने पर बहुत पीड़ा है लेकिन जो लोग मुझे जानते हैं उनको पता है कि कॉस्मेटिक दुनिया के बावजूद हम किस तरह रहते हैं।
-एजेंसी

50% LikesVS
50% Dislikes

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *