25 साल से फरार कश्‍मीरी आतंकवादी अफगानिस्तान में गिरफ्तार

काबुल। अफगानिस्तान में सुरक्षा एजेंसियों के हाथ ‘अनजाने’ में एक बड़ा आतंकी लग गया है। यह कश्मीरी आतंकी पिछले 25 साल से फरार था जो अब दूसरे बड़े आतंकी के साथ धरा गया है। हालांकि, शुरुआत में उसकी पहचान उजागर नहीं हो पाई थी, लेकिन जब पता चला कि वह कौन है तो सुरक्षा एजेंसी वाले भी चौंक गए थे। इस कश्मीरी आतंकी का नाम एजाज अहमद है। वह श्रीनगर का रहने वाला है। पिछले बीस सालों से इसकी तलाश जारी थी। जिस आतंकी के साथ एजाज को पकड़ा गया है वह इस्लामिक स्टेट खोसरान (ISKP) का चीफ है जिसने गुरुद्वारे हमले की जिम्मेदारी ली थी।
एजाज इससे पहले भी एकबार गिरफ्तार हुआ था लेकिन फिर जेल से रिहा होने के बाद से वह गायब हो गया था। बताया जाता है कि वह जेल से निकलकर सीधा बांग्लादेश गया और फिर वहां से पाकिस्तान। 55 साल के एजाज पर जम्मू कश्मीर से इस्लामिक एस्टेट में भर्ती करने का आरोप है।
तब इनामी आतंकी पर था पूरा ध्यान
अब करीब 25 साल बाद इस महीने की शुरुआत में उसे अफगानिस्तान के नेशनल डायरक्टोरेट ऑफ सिक्योरिटी (NDS) ने गिरफ्तार किया था। गिरफ्तारी कांधार में हुई थी। हालांकि, तब तक उसकी असली पहचान नहीं पता थी। ऐसा इसलिए था क्योंकि NDS की पूरा फोकस इनामी आतंकी असलम फारुकी पर था। वह इस्लामिक स्टेट ‘खोसरान’ का प्रमुख है। उसी ने 25 मार्च को काबुल गुरुद्वारा हमले की जिम्मेदारी ली थी। इस हमले में 27 श्रद्धालु मारे गए थे। उस वक्त तक खुद को अली मोहम्मद बता रहा था। उसे कैसे पहचाना गया यह फिलहाल साफ नहीं है लेकिन इतना पता चला है कि एजेंसी के लिए भी यह चौंकाने वाला है।
परिवार के आतंकी कनेक्शन
एजाज का जन्म बडगाम में हुआ। परिवार में वह देश के खिलाफ बंदूक उठाने वाला अकेला नहीं है। एजाज का ससुर अब्दुल घनी डार लश्कर ए तैयबा का कमांडर इन चीफ रहा। डार का इसी फरवरी किसी ने कत्ल कर दिया था। एजाज ने पाकिस्तान अधिकृत कश्मीर में भी एक लड़की से शादी की हुई है।
-एजेंसियां

50% LikesVS
50% Dislikes

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *