कश्‍मीर: पत्थरबाजों ने स्कूल बस को निशाना बनाया, एक बच्चा घायल

श्रीनगर। आतंकवादी संगठन हिज्बुल मुजाहिदीन के कमांडर और पोस्टर बॉय समीर टाइगर के सुरक्षाबलों के हाथों एनकाउंटर में मौत के बाद कश्‍मीर घाटी में तनाव बना हुआ है। अब प्रदेश के कानीपोरा में पत्थरबाजों ने एक स्कूल बस को निशाना बनाया, जिसमें एक बच्चा घायल हो गया। माना जा रहा है कि इस बस में 4-5 साल के छोटे-छोटे बच्चे भी सवार थे। 
पत्थरबाजी में घायल हुए एक छात्र के पिता ने बताया, 'मेरा बेटा पत्थरबाजी में जख्मी हो गया, यह इंसानियत के खिलाफ है। यह किसी भी मासूम के साथ हो सकता है।' 
दूसरी ओर जम्मू-कश्मीर के पूर्व मुख्यमंत्री उमर उब्दुल्ला ने इस घटना की निंदा करते हुए बच्चों पर हमला करने वालों को आड़े हाथों लिया। 
उमर ने ट्वीट कर लिखा, 'बच्चों और पर्यटकों पर पत्थर फेंककर इन पत्थरबाजों का अजेंडा कैसे पूरा हो रहा है? इस तरह के हमलों पर हमारी ओर से स्पष्ट और एक आवाज में आलोचना की जानी चाहिए और यह रहा मेरा ट्वीट।' 
इससे पहले पुलवामा के एक नागरिक के मौत के विरोध में अलगाववादी संगठनों ने बंद का आह्वान किया था। बंद को देखते हुए रेल, इंटरनेट और दुकानें और परिवहन सेवाएं बंद कर दी गईं थीं। यह बंद सैयद अली गिलानी, मीरवाइज उमर फारूक और मुहम्मद यासीन मलिक के नेतृत्व वाले अलगाववादी संगठन जॉइंट रेसिस्टेंस लीडरशिप (जेआरएल) की ओर से बुलाया गया था। 
इससे पहले सोमवार को शीर्ष हिजबुल कमांडर समीर टाइगर और उसका सहयोगी अकीब जिले के द्रबगाम गांव में चार घंटे तक चली मुठभेड़ में मारा गया। इसी इलाके में पत्थरबाजी कर रही भीड़ की सुरक्षाबलों के साथ झड़प हुई, जिसमें शाहिद (14) मारा गया और 15 अन्य नागरिक घायल हो गए। रैनावारी, खानयार, नौहट्टा, एम.आर गंज और सफा कदाल में प्रतिबंध लगाए गए हैं। वहीं, मैसूमा और क्रालखुद में आंशिक तौर पर प्रतिबंध लगा है। 
डीजीपी ने बताया पागलपन 
जम्मू-कश्मीर पुलिस के महानिदेशक एसपी वैद ने इस मामले पर ट्वीट किया, 'उपद्रवियों ने रेनबो स्कूल शोपियां की बस पर पत्थर फेंके, जिसमें दूसरी कक्षा के बच्चे रेहान को चोट लगी है। रेहान को इलाज के लिए भेजा गया है। यह पागलपन है कि पत्थरबाज अब बच्चों को निशाना बना रहे हैं। इन अपराधियों को कानून का सामना करना पड़ेगा।' 
सीएम महबूबा मुफ्ती ने भी की आलोचना 
राज्य की मुख्यमंत्री महबूबा मुफ्ती ने इस घटना पर आश्चर्य जताया है। उन्होंने लिखा, 'शोपियां में बच्चों की स्कूल बस पर हमले की खबर सुनकर आश्चर्य हो रहा है और गुस्सा भी आ रहा है। इस कायरतापूर्ण और असंवेदनशील घटना में न्याय किया जाएगा।'    
-एजेंसी 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Translate »