कासगंज में दरोगा और सिपाही पर हमला करने वाला एनकाउंटर में ढेर

कासगंज। उत्तर प्रदेश के कासगंज में पुलिस टीम पर हमला करने वाले शराब माफियाओं में से एक को पुलिस ने एनकाउंटर में मार गिराया है। मारे गए अपराधी का नाम ऐलकार बताया गया है। वह मुख्य आरोपी मोतीराम का भाई है। मोतीराम अब तक फरार है और उसकी सरगर्मी से तलाश की जा रही है। अब तक की जानकारी के मुताबिक मंगलवार को शराब माफिया ने कासगंज में पुलिस टीम पर हमला कर दिया था। वारदात में एक सिपाही की हत्या कर दी गई थी जबकि एक एक दरोगा घायल थे। मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने पूरी घटना का संज्ञान लेते हुए आरोपी के खिलाफ राष्ट्रीय सुरक्षा कानून (रासुका या NSA) लगाने के आदेश दिए हैं। साथ ही शहीद सिपाही के आश्रित परिवार को 50 लाख की सहायता व नौकरी देने की घोषणा की है। घटनाक्रम मंगलवार शाम है। कुर्की के लिए नोटिस चस्पा करने गए दारोगा अशोक कुमार सिंह और सिपाही देवेंद्र कुमार को शराब माफिया मोतीराम ने पकड़ लिया। उनके साथ मारपीट की गई। सूचना मिलने पर पुलिस बल पहुंचा। दोनों सिपाही गांव से डेढ़ किलोमीटर दूर खेत में बंधक मिले। आरोपी हिस्ट्रीशीटर मोतीराम के विरुद्ध 11 केस दर्ज हैं।
लोगों को आई विकास दुबे की याद: कासगंज में हुई इस वारदात ने लोगों को कानपुर के बिकरू कांड की याद दिला दी। बिकरू में माफिया विकास दुबे के यहां दबिश देने गई पुलिस पर हमला कर दिया गया था। इसमें एक सीओ समेत कई पुलिसकर्मी शहीद हो गए थे। बाद में पुलिस ने विकास दुबे का भी एनकाउंटर कर दिया था।
-एजेंसियां

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *