क्लाइमेक्स पर पहुंचा Karnataka का सियासी संकट, विधायक अड़े

बेंगलुरु। Karnataka का सियासी संकट अब क्लाइमेक्स पर पहुंच गया है। राज्य में एच डी कुमारस्वामी सरकार के सभी मंत्रियों के इस्तीफे के बाद माना जा रहा था कांग्रेस-जेडीएस नाराज विधायकों को मना लेगी लेकिन इस्तीफा दे चुके बागी विधायक अपने फैसले पर अड़े हुए हैं और पल-पल अपना ठिकाना बदल रहे हैं।
पहले खबर थी कि बागी विधायक गोवा जाने वाले हैं लेकिन उन्होंने अपना प्लान बदलते हुए मुंबई में किसी अज्ञात जगह पर रुकने का फैसला किया है।
उधर पूर्व मुख्यमंत्री और भारतीय जनता पार्टी (बीजेपी) नेता बीएस येदियुरप्पा ने सीएम कुमारस्वामी से इस्तीफा मांगा है।
बागी विधायक हर पल बदल रहे प्लान
इससे पहले खबर थी कि सभी बागी विधायक मुंबई से गोवा के लिए रवाना हो गए हैं लेकिन ऐन मौके पर विधायकों ने अपने प्लान में चेंज करते हुए मुंबई में ही किसी अज्ञात जगह रुकने का फैसला किया। बागी विधायकों को मंत्री पद देने का Karnataka के उप मुख्यमंत्री जी परमेश्वर का प्रस्ताव भी बेअसर रहा। होटल में आयोजित बैठक के दौरान Karnataka के बागी विधायकों ने कहा कि मौजूदा सरकार में मंत्री बनने का कोई मतलब नहीं होगा क्योंकि कांग्रेस सरकार की स्थिरता को आसानी से हिलाया जा सकता है।
विधायकों ने मंत्री पद का ऑफर ठुकराया
विधायकों ने कहा, ‘उन्होंने पेश किए गए समझौते को खारिज कर दिया है और अपने इस्तीफे को लेकर काफी दृढ़ हैं।’ उन्होंने कहा कि वे बीजेपी की अगुआई वाली नई सरकार का हिस्सा बनना चाहते हैं। इसके बाद गठबंधन ने अपने शीर्ष संकटमोचक डीके शिवकुमार को जिम्मेदारी सौंपी थी कि वे बागी विधायकों को मनाएं। इससे पहले बताया गया कि बागी विधायकों के मुंबई के बांद्रा कुर्ला स्थित सोफिटेल होटल में ठहरने के दौरान राज्य के बीजेपी नेताओं ने उन पर निगरानी रखी हुई थी। इस दौरान बीजेपी नेताओं ने दावा किया था कि कुछ और बागी विधायक इस समूह में शामिल हो सकते हैं।
दूसरी ओर कांग्रेस कार्यकर्ताओं ने सोमवार को मुंबई के सेफिटेल होटल के बाहर विरोध प्रदर्शन किया। कार्यकर्ता Karnataka के बागी विधायकों से इस्तीफा वापस लेने की मांग कर रहे हैं।
अब तक 15 विधायकों का इस्तीफा
सोमवार को दो निर्दलीय विधायकों ने भी Karnataka की कांग्रेस-जेडीएस सरकार से समर्थन वापस ले लिया। दोनों विधायकों को मिलाकर अब तक 15 विधायकों ने कांग्रेस-जेडीएस गठबंधन की सरकार से अपना समर्थन वापस लिया है।
येदियुरप्पा बोले, इस्तीफा दें कुमारस्वामी
Karnataka सरकार पर मंडरा रहे संकट के बीच बंगलुरु में बीजेपी के विधायक दल की बैठक हुई। बैठक से पहले पूर्व मुख्यमंत्री और बीजेपी नेता बीएस येदियुरप्पा ने कहा कि ‘सरकार अल्पमत में है। मुख्यमंत्री को तत्काल प्रभाव से इस्तीफा देना चाहिए।’ उन्होंने यह भी कहा कि इस मांग को लेकर पूरे राज्य में प्रदर्शन किया जाएगा। सरकार बनानी है या नहीं बनानी, इस बात का फैसला केंद्रीय नेतृत्व करेगा।’ बीजेपी के विधायक दल की ये बैठक राज्य के राजनीतिक हालातों को देखते हुए बुलाई गई थी।
लोकसभा में उठा Karnataka मुद्दा
कर्नाटक में सियासी संकट का मामला सोमवार को लोकसभा में भी उठा। शून्यकाल में कांग्रेस के अधीर रंजन चौधरी ने आरोप लगाया कि मध्य प्रदेश और कर्नाटक की राज्य सरकारों को तोड़ने के लिए दलबदल कराने का काम किया जा रहा है। कांग्रेस ने आरोप लगाया कि कर्नाटक के कांग्रेस के विधायकों को प्रलोभन देकर दल बदल कराया जा रहा है और उन्हें चार्टर्ड विमान में ले जाकर मुंबई के पांच सितारा होटल में ठहराया जा रहा है। अधीर रंजन चौधरी ने कहा कि लोकसभा चुनाव में ‘303 सांसद जीतने के बाद भी आपका पेट नहीं भरा है। आपका पेट, कश्मीरी गेट के बराबर हो गया है।’
Karnataka संकट के बहाने राजनाथ का राहुल पर तंज
कांग्रेस के आरोप पर रक्षा मंत्री और सदन के उप नेता राजनाथ सिंह ने कहा कि कर्नाटक में जो कुछ हो रहा है, उसका हमारी पार्टी से कोई लेनादेना नहीं है। राजनाथ सिंह ने कांग्रेस पर कटाक्ष करते हुए कहा कि त्यागपत्र दिलाने का सिलसिला बीजेपी ने शुरू नहीं किया, बल्कि यह तो राहुल गांधी ने शुरू किया है। उनके कहने पर कई नेताओं ने त्यागपत्र दिए हैं।
-एजेंसियां

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Translate »