कन्हैया ने RJD से मांगा 30 साल का हिसाब, तेजस्‍वी को लठैत बताया

पटना। बिहार में दो सीटों पर हो रहे उपचुनाव ने महागठबंधन को दो फाड़ कर दिया। कांग्रेस के बिहार प्रभारी ने सीधे-सीधे कह दिया कि वो आगामी लोकसभा चुनाव में राज्य की सभी सीटों पर उनकी पार्टी चुनाव लड़ेगी। इसके बाद रही-सही कसर हाल ही में कांग्रेस से जुड़े कन्हैया कुमार ने पूरी कर दी। बिना नाम लिए उन्होंने कहा कि एक पढ़ा-लिखा इंसान लठैत की भाषा बोलता है।
लालू के ‘लाल’ कितने पढ़े-लिखे?
पढ़ाई-लिखाई की अगर बात की जाए तो आरजेडी सुप्रीमो लालू प्रसाद यादव खुद पटना विश्वविद्यालय लॉ ग्रेजुएट हैं। बेटों की पढ़ाई-लिखाई को लेकर वह हमेशा निशाने पर रहते हैं। बेटों की तुलना में लालू यादव की बेटियां काफी पढ़ी-लिखी हैं। तेजस्वी यादव ने 9वीं तक पढ़ाई की है। स्कूल ड्रॉप आउट हैं। दिल्ली के एक नामचीन स्कूल में वो पढ़ रहे थे। कहा जाता है कि क्रिकेटर बनने की शौक की वजह से उन्होंने पढ़ाई छोड़ दी। उनके बड़े भाई तेज प्रताप यादव 12वीं पास हैं। हालांकि तेज प्रताप ने पटना के बीएन कॉलेज में दाखिला लिया था लेकिन फेल हो गए थे, उसके बाद उन्होंने पढ़ाई छोड़ दी। बिहार की राजनीति में लालू यादव के उत्तराध‍िकारी के तौर पर उनके बेटे तेजस्वी यादव हैं मगर उनके एजुकेशन को लेकर विरोधी कई बार सवाल उठा चुके हैं।
पढ़ा-लिखा इंसान लठैत की भाषा बोलता है
बिहार कांग्रेस के मुख्यालय सदाकत आश्रम में पहुंचे कन्हैया कुमार ने अपने स्टाइल में जमकर बोला। सीधे-सीधे नाम लेने से वो बचते रहे। इस दौरान उन्होंने कहा कि दुख की बात ये है कि एक पढ़ा-लिखा इंसान लठैत की भाषा बोलता है। जाहिर-सी बात है कि कन्हैया ने आरजेडी के कर्ताधर्ता तेजस्वी यादव के लिए बोला होगा। ऐसा अनुमान लगाया जा रहा है। हालांकि 19 अक्टूबर को आरजेडी सांसद मनोज झा ने कहा था कि बिहार प्रभारी भक्त चरण दास कांग्रेस की लुटिया डुबो देंगे। इसके अलावा भी उन्होंने काफी पर्सनल अटैक किया था। चूंकि उपचुनाव में तेजस्वी ने कांग्रेस को धेला बराबर भी भाव नहीं दिया। अंत में प्रदेश कांग्रेस प्रभारी भक्त चरण दास को कहना पड़ा कि उनकी पार्टी का आरजेडी से गठबंधन टूट चुका है। उपचुनाव में कांग्रेस और आरजेडी आपस में ही मुकाबला करती दिख रहीं हैं जबकि सत्ताधारी दल जेडीयू अंदर-ही-अदर अपनी रणनीति पर काम कर रही है।
कन्हैया ने RJD से मांगा 30 साल का हिसाब
दरअसल, कांग्रेस में शामिल होने के बाद पहली बार कन्हैया कुमार पटना पहुंचे थे। पार्टी मुख्यालय सदाकत आश्रम में कांग्रेस नेताओं को संबोधित करने के दौरान कन्हैया ने इशारों में आरजेडी और तेजस्वी पर तंज कसा। उन्होंने कहा कि 30 साल में उन लोगों (लालू-तेजस्वी) ने कांग्रेसी वोटर के लिए क्या किया, इसका वो जवाब दें। उन्होंने कहा कि दुख की बात ये है कि एक पढ़ा-लिखा इंसान लठैत वाली भाषा बोलता है। वह कुर्सी के लिए कोना-कोना खेल रहे हैं। कन्हैया कुमार ने कहा कि ‘भाजपा के खिलाफ जो लड़ना चाहते हैं, वो कांग्रेस के साथ होंगे। जो ऐसा नहीं चाहते हैं, वो केवल गुणा-गणित करते रहेंगे। एक पढ़ा लिखा इंसान लठैत वाली भाषा बोलता है, यह दुख की बात है। वो हमारे कांग्रेस प्रभारी के बारे में भी बोलता है।’
-एजेंसियां

50% LikesVS
50% Dislikes

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *