कंगना रनौत ने कहा, पॉलिटिक्स में आना है तो पहले वैराग्य लें

मुंबई। बॉलिवुड अभिनेत्री कंगना रनौत ने कहा कि पॉलिटिक्स के जरिए देश की सेवा करने से पहले हर किसी को वैराग्य हासिल करना चाहिए। कंगना की मानें तो वह कभी भी पॉलिटिक्स को अपना करियर नहीं बनाएंगी। पॉलिटिक्स में जाना है तो उद्देश्य सिर्फ देश की सेवा करने का होगा।
जग्गी सदगुरु के साथ एक चर्चा में शामिल हुईं कंगना से सवाल किया गया, क्या आप पॉलिटिक्स को अपना करियर बनाएंगी?
जवाब में कंगना ने कहा, ‘मुझे लगता है पॉलिटिक्स को कभी अपना करियर नहीं बनाना चाहिए। मेरे जैसे इंसान को अगर पॉलिटिक्स में जाना है तो पहले हमें वैराग्य हासिल करना चाहिए। जब भी आपको जनता की सेवा करनी है तो वैरागी होना जरूरी हो जाता है।’
मुझे कहीं और अपना करियर नहीं बनाना है
कंगना आगे कहती हैं कि ‘यदि आपका परिवार है, बच्चे हैं तो पहले उनका ख्याल रखना होगा, बाद में देश की सेवा करें। मैं अपने इस (बॉलिवुड) करियर में इतनी सफल हूं और अभी यही मेरा करियर है। मुझे कहीं और अपना करियर नहीं बनाना है, लेकिन यह भी सच है कि यदि मुझे अपने देश की सेवा करनी है तो एक ही ऑप्शन है कि अपना पूरा ध्यान एक ही काम पर लगाना है। अगर दूसरी चीजों में दिमाग लगाऊंगी तो फिर देश की सेवा नहीं हो पाएगी। जो लोग पॉलिटिक्स में जाना चाहते हैं उन्हें जाना चाहिए लेकिन उन्हें किसी तरह से वैराग्य हासिल करना चाहिए।’
तो क्या आप वैरागी बनने वाली हैं?
जवाब में कंगना ने कहा, ‘मैं उम्मीद करती हूं और भगवान की कृपा रही तो सब कुछ छोड़-छाड़ के वैराग लेने का साहस आ जाएगा। वैसे अभी तो मुझे बहुत काम करना है। मैं हर क्षेत्र में बहुत काम करना चाहती हूं। अभी सब छोड़ कर वैराग लेने का समय नहीं आया है। सब चीज का समय आता है और योगिनी बनने का भी समय आएगा।’
कंगना इन दिनों अपनी फिल्म ‘मणिकर्णिका: द क्वीन ऑफ झांसी’ के प्रमोशन और राजकुमार राव के साथ ‘मेन्टल है क्या’ की शूटिंग में बिजी हैं। ‘मणिकर्णिका: द क्वीन ऑफ झांसी’ अगले साल 25 जनवरी को देशभर के सिनेमाघरों में रिलीज़ होगी। फिल्म में सोनू सूद, अंकिता लोखंडे, अतुल कुलकर्णी और सुरेश ओबेरॉय राय जैसे कलाकार अहम भूमिकाओं में नजर आएंगे।
-एजेंसियां

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Translate »