Isha फाउंडेशन के ध्यानलिंग आदिशक्त‍ि आश्रम में की कंगना रानौत ने पूजा

कोयंबटूर। कंगना रनौत ने यहां स्‍थित Isha फाउंडेशन के ध्यानलिंग आदिशक्त‍ि आश्रम में पूजा अर्चना की। कंगना इन दिनों अपनी आनेवाली फिल्‍म ‘मणिकर्णिका’ की शूटिंग में व्‍यस्‍त हैं। कल वे कोयंबटूर से 30 किमी दूर स्थि‍त ध्यानलिंग आदिशक्त‍ि आश्रम पहुंचीं।

कंगना ने काफी देर तक यहां पूजा-अर्चना की। साथ ही उन्‍होंने अपनी फिल्‍म मणिकर्णिका के सफलता के लिए भी दुआएं मांगी। कंगना मंगलवार को ईशा फाउंडेशन के कोयंबटूर स्थि‍त हेड क्वॉर्टर भी पहुंची थीं। यह आश्रम योग के लिए समर्पित है।

कंगना पारंपरिक लिबास साड़ी में Isha Foundation पहुंची थीं। उन्‍होंने कई तसवीरें भी खिंचवाई। ‘मणिकर्णिका’ में कंगना रानी लक्ष्‍मीबाई के किरदार में हैं। यह फिल्‍म झांसी की रानी लक्ष्‍मीबाई की वीरता की कहानी बयां करेगी।

फिल्‍म का टीजर 15 अगस्‍त को जारी किया जायेगा। ‘मणिकर्णिका’ पहले 27 अप्रैल को रिलीज होनेवाली थी लेकिन न तो शूटिंग पूरी हो पाई और न ही वी एफ एक्स (VFX) का काम। ऐसे में तय किया गया कि फिल्‍म को इसी साल नवंबर में रिलीज किया जायेगा। लेकिन अब फिल्‍म 25 जनवरी 2019 को सिनेमाघरों में रिलीज होगी।
फिल्‍म की कॉस्‍टूयम डिजायनर नीता लुल्‍ला हैं। इसके लिए उन्‍होंने छह महीने से ज्‍यादा का वक्‍त लिया था। इस काम में उनके साथ 40 लोगों की टीम है। नीता ने एक इंटरव्यू में बताया था कि अमूमन फिल्‍मों में मुख्‍य किरदारों की तदाद चार से पांच होती है। यहां 15 मुख्‍य किरदार हैं। हमने मूल रूप से नौवारी साडिया कॉस्‍ट्यूम के तौर पर इस्‍तेमाल किया है। वॉर सीक्‍वेंस के लिए हमने अचकन अटायर डिजायन किया है।

इस फिल्‍म का स्‍क्रीनप्‍ले ‘बाहुबली’ के निर्माता एस राजमौलि के पिता व लेखक विजयेंद्र प्रसाद ने लिखा है। एक इंटरव्यू में उन्‍होंने कहा था,’ इस कहानी को मै ही लिख सकता था क्‍योंकि खुद मेरी बेटी का नाम मणिकर्णिका है। मैंने अपने बचपन में लक्ष्‍मीबाई की वीरता की कहानी पढ़ी थी इ‍सलिए मैंने अपनी का नाम भी मर्णिकर्णिका ही रखा था।

-एजेंसी

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Translate »