कल्याण सिंह ने खुद को बताया बीजेपी का कार्यकर्ता, चुनाव आयोग हरकत में आया

नई दिल्‍ली। राजस्थान के राज्यपाल कल्याण सिंह अपने एक बयान के चलते मुसीबत में घिरते नजर आ रहे हैं। चुनावों में बीजेपी की जीत से जुड़ा बयान देने को लेकर चुनाव आयोग ने उनके खिलाफ एक्शन के लिए राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद को चिट्ठी लिखी है।
पिछले दिनों कल्याण सिंह ने बीजेपी वर्कर्स से बात करते हुए कहा था कि नरेंद्र मोदी देश और समाज की जरूरत हैं इसलिए उन्हें दोबारा पीएम बनना चाहिए।
उनके इस बयान को विपक्षी दलों ने चुनाव आचार संहिता का उल्लंघन करार देते हुए चुनाव आयोग से शिकायत की थी। इन शिकायतों पर विचार करने के बाद आयोग ने कल्याण सिंह की शिकायत राष्ट्रपति से की है।
कल्याण सिंह संवैधानिक पद पर हैं इसलिए उनके संबंध में कोई भी फैसला राष्ट्रपति ही ले सकते हैं। पिछले दिनों अपने गृह जिले अलीगढ़ पहुंचे कल्याण सिंह ने कहा था, ‘हम सभी बीजेपी के कार्यकर्ता हैं। हम निश्चित तौर पर चाहते हैं कि बीजेपी जीते। हम चाहते हैं कि पीएम नरेंद्र मोदी एक बार फिर से देश के प्रधानमंत्री बनें। देश और समाज के लिए यह जरूरी है कि मोदी जी एक बार फिर से पीएम बनें।’
कल्याण सिंह के बयान पर ऐतराज जताते हुए राजस्थान के सीएम अशोक गहलोत ने कहा था, ‘कल्याण सिंह जी के प्रति हमारे मन में पूरा सम्मान है। वह संवैधानिक पद पर हैं और गवर्नरों से यह उम्मीद की जाती है कि वे पक्षपात पूर्ण रवैया नहीं अपनाएंगे।’ सूबे के डेप्युटी सीएम सचिन पायलट ने कल्याण सिंह के बयान को संवैधानिक जिम्मेदारी के विपरीत और उसका उल्लंघन करार दिया था। उन्होंने कहा कि यह दुखद है कि गवर्नर खुद को बीजेपी का कार्यकर्ता बता रहे हैं।
यूपी के पूर्व सीएम कल्याण सिंह ने 1999 में बीजेपी छोड़ दी थी, लेकिन 2004 में वह फिर पार्टी में वापस लौटे। 2014 में केंद्र में नरेंद्र मोदी सरकार के गठन के बाद 87 वर्षीय हिंदूवादी नेता को राजस्थान के गर्वनर की जिम्मेदारी दी गई थी।
-एजेंसियां

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Translate »