कैलाश सत्यार्थी का Nobel प्रशस्ति पत्र जंगल से बरामद

Kailash Satyarthi's Nobel Citation letter Recovered from the Wilderness
कैलाश सत्यार्थी का Nobel प्रशस्ति पत्र जंगल से बरामद

बाल अधिकार कार्यकर्ता और Nobel पुरस्कार विजेता कैलाश सत्यार्थी के घर में चोरी होने के एक महीने से अधिक समय के बाद जंगल से नोबेल प्रशस्ति पत्र बरामद किया गया है.
पुलिस ने इसे दक्षिण-पूर्वी दिल्ली के संगम विहार क्षेत्र के निकट जंगल से बरामद किया है.
कार्यकर्ता के दक्षिणपूर्वी दिल्ली के कालका जी स्थित घर से नोबेल प्रतिकृति, प्रशस्तिपत्र और अन्य मूल्यवान चीजों की चोरी के संबंध में 12 फरवरी को तीन लोगों को गिरफ्तार किया गया था. कार्यकर्ता के घर पर छह-सात फरवरी की रात में चोरी हुई थी.
चोरी की घटना के बाद जहां प्रतिकृति और दूसरी मूल्यवान चीजें बरामद कर ली गई थी, वहीं प्रशस्ति पत्र अब तक नहीं मिला था.
वरिष्ठ पुलिस अधिकारी ने बताया कि हालांकि इसे संगम विहार क्षेत्र के पीछे के जंगल से कल बरामद कर लिया गया.
उन्होंने बताया कि प्रशस्ति पत्र तलाश करने का काम दो दिन तक चला. इस तलाश में पुलिस बल और डॉग स्कवॉड लगे हुए थे.
अधिकारी ने बताया कि प्रशस्ति पत्र पुरानी अवस्था में ही बरामद हुआ है. आरोपी ने इसे कागज का टुकड़ा समझते हुए जंगल में फेंक दिया था. प्रशस्ति पत्र के साथ कई अन्य चीजें बरामद हुई हैं.
सत्यार्थी को साल 2014 में पाकिस्तान की बाल अधिकार कार्यकर्ता मलाला यूसुफजई के साथ नोबेल पुरस्कार संयुक्त रूप से दिया गया था.
उन्होंने साल 2015 के जनवरी महीने में अपना नोबेल मेडल भारत के राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी को सौंप दिया था. वास्तविक मेडल फिलहाल राष्ट्रपति भवन के संग्रहालय में रखा हुआ है.
-एजेंसी

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *