केडी हास्पिटल में बच्चे का ureteric implant विधि से ऑपरेशन

मथुरा। के.डी. मेडिकल कालेज हॉस्पिटल एण्ड रिसर्च सेंटर के शिशु शल्य चिकित्सक श्याम बिहारी शर्मा के मार्गदर्शन में डाक्टरों की टीम ने एक 10 माह के बच्चे का ureteric implant विधि से दुर्लभ ऑपरेशन करने में सफलता हासिल की है। अब बच्चा न केवल स्वस्थ है बल्कि अच्छी तरह से मूत्रोत्सर्जन कर रहा है।

ज्ञातव्य है कि गांव मुहान जिला मथुरा निवासी मुरारीलाल का 10 माह का पुत्र विमल जन्म से ही मूत्र रोग से पीड़ित था। मुरारीलाल बच्चे की परेशानी को लेकर कई सरकारी और गैर सरकारी चिकित्सालयों के डाक्टरों से मिले लेकिन उसका उचित निदान नहीं हो सका। आखिरकार वह बच्चे को लेकर के.डी. मेडिकल कालेज हॉस्पिटल एण्ड रिसर्च सेंटर के शिशु शल्य चिकित्सक श्याम बिहारी शर्मा से मिले। डा. शर्मा द्वारा आवश्यक जांच कराने के बाद पता चला कि बच्चे का बायां गुर्दा (वृक्क) यथास्थान नहीं है तथा मूत्र भी ऊपर गुर्दे की तरफ जा रहा है। मेडिकल भाषा में इसे पेल्विक एक्टोपिक किडनी विद बाइलेटरल वेसाइको यूरेटरल रिफलक्स कहते हैं।

विभिन्न जांचों का गहनता से निरीक्षण करने के बाद डा. श्याम बिहारी शर्मा के नेतृत्व में 13 मई को बच्चे के ऑपरेशन का निर्णय लिया गया। बच्चे के दुर्लभ ऑपरेशन में डा. श्याम बिहारी शर्मा का सहयोग डा. मनु गुप्ता, डा. विक्रम यादव और निश्चेतना विशेषज्ञ डा. स्वाती वर्मा ने किया। इस ऑपरेशन को कोहेन्स क्रोस ट्राइगोनल ureteric implant कहते हैं। गौरतलब है कि के.डी. हास्पिटल में ureteric implant विधि से किया गया यह पहला ऑपरेशन है। अब विमल पूरी तरह से स्वस्थ है तथा सामान्य तरीके से पेशाब कर रहा है।

आर.के. एजूकेशन हब के चेयरमैन डा. रामकिशोर अग्रवाल, प्रबंध निदेशक मनोज अग्रवाल और कालेज की प्राचार्य डा. मंजू नवानी ने विमल के सफल ऑपरेशन के लिए डाक्टरों की टीम को बधाई दी है। कालेज की प्राचार्य डा. मंजू नवानी ने जनपद और उसके आसपास के जिलों के लोगों से के.डी. हॉस्पिटल की आधुनिक चिकित्सा सुविधाओं तथा विशेषज्ञ चिकित्सकों की सेवाओं का लाभ उठाने का आह्वान किया है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Translate »