ईद से ठीक पहले लोगों को हर तरह की सहूलियत देने में जुटी है जम्मू-कश्मीर सरकार

श्रीनगर। ईद-उल-अजहा से ठीक पहले जम्मू-कश्मीर सरकार लोगों को हर तरह की सहूलियत देने में जुटी हुई है। अनुच्छेद 370 के ज्यादातर प्रावधानों के हटने के 5 दिन बाद भी घाटी में माहौल शांतिपूर्ण बना हुआ है। जम्मू-कश्मीर के सिविल प्रशासन ने बताया कि कश्मीर डिवीजन के अंतर्गत आने वाले 3,697 राशन घाटों में से 3,557 इस वक्त काम कर रहे हैं।
प्रशासन ने बताया कि सरकारी वैन के जरिए लोगों के घरों तक सब्जियां, एलपीजी, चिकन, अंडे आदि पहुंचाए जा रहे हैं। प्रशासन ने एक बयान जारी कर कहा, ‘सरकार ने सभी जरूरी सामानों का स्टॉक जमा कर रखा है। सरकार के पास करीब 65 दिन चलने भर का गेहूं, 55 दिन चलने भर का चावल, 17 दिन तक का मटन, 1 महीने भर का चिकन, 35 दिन का केरोसिन ऑइल, 1 महीने की एलपीजी और 28 दिन का पेट्रोल-डीजल है।’
कश्मीरी बच्चों की परिवार से यूं बात कराएगी सरकार
सिविल प्रशासन ने बयान में कहा कि ईद के मद्देनजर करीब 300 टेलिफोन बूथ बनाए गए हैं, जिसके जरिए आम लोग अपने रिश्तेदारों से बात कर सकेंगे। अलीगढ़ और अन्य जगहों पर दिल्ली में मौजूद रेजिडेंट कमिश्नर के जरिए लाइजन ऑफिसर तैनात किए गए हैं, जो यहां रह रहे लोगों की कश्मीर घाटी में स्थित अपने परिवार से बात करवाने में मदद करेंगे।
बाजारों में चहल-पहल है। लोग बकरीद की खरीदारी करते दिख रहे हैं। रियासी, रामबन और किश्तवाड़ जिलों में लोग शॉपिंग में मशगूल हैं। राज्य प्रशासन ने एक बयान जारी कर बताया कि ईद की तैयारियां सामान्य रूप से चल रही हैं और बेकरी/पोल्ट्री/मटन की दुकानें रविवार को खुली हैं और इनके बाहर लंबी कतारें दिख रही हैं। इसमें कहा गया, ‘श्रीनगर शहर में यातायात सुचारू रूप से चल रहा है।’
बता दें कि अनुच्छेद 370 हटने के बाद जम्मू-कश्मीर में अचानक काफी कुछ बदल गया है। विशेष दर्जा हटने के साथ ही राज्य अब केंद्र शासित प्रदेश हो गया है। सरकार का दावा है कि 370 हटने के बाद किसी भी तरह की कोई हिंसा नहीं हुई है और धीरे-धीरे हालात सामान्य हो रहे हैं। सरकार ने पूरी तैयारी की है कि अपना त्योहार बकरीद मनाने में लोगों को किसी तरह की परेशानी का सामना ना करना पड़े। इसके लिए सरकार पूरी कोशिश कर रही है कि लोगों को पारंपरिक तरीके से त्योहार मनाने का माहौल दिया जाए।
राज्यपाल ने दी ईद की मुबारकबाद
उधर, राज्यपाल सत्यपाल मलिक ने राज्य के लोगों को ईद की मुबारकबाद दी है। राजभवन से जारी बयान के मुताबिक, राज्यपाल ने लोगों को ईद की मुबारकबाद देते हुए उनकी प्रगति की कामना की है।
ईद के लिए राज्य प्रशासन द्वारा की गई तैयारियां
– कोषागार व बैंक इस अवधि के दौरान कार्य कर रहे हैं, यहां तक की छुट्टियों में भी। एटीएम सुचारू रूप से कार्य कर रहे हैं और यह सुनिश्चित किया जा रहा है कि नकदी नियमित आधार पर डाली जाए और लोग जरूरत के अनुसार नकदी निकाल रहे हैं।
– सभी कर्मचारियों का वेतन व डीआरडब्ल्यू/कैजुअल मजदूरों का वेतन आदि जारी किया जा रहा है।
– जीपी फंड/पेंशन/ग्रेच्युटी व दूसरे भुगतान किए जा रहे हैं।
– विकास कार्यों के लिए भुगतान को प्राथमिकता के आधार पर मंजूरी दी जा रही है।
– सब्जियों/एलपीजी/पोल्ट्री/अंडों की आपूर्ति मोबाइल वैन से घर-घर की जा रही है। श्रीनगर शहर में छह मंडियां बनाई गई हैं। इसके अलावा 2.5 लाख भेड़ें जनता के लिए ईद-उल-अजहा के मौके पर कुर्बानी के लिए उपलब्ध हैं। इसके अलावा जिलाधिकारियों ने ईद-उल-अजहा के लिए व्यापक इंतजाम किए हैं।
– आम जनता को राशन की आपूर्ति के लिए हर जिले में राशन घाट ने काम करना शुरू कर दिया है। कश्मीर डिवीजन के 3,697 राशन घाटों में से 3557 ने जनता को राशन देने का कार्य शुरू कर दिया है।
– हाजियों के सऊदी अरब से सुरक्षित व परेशानी मुक्त वापसी के लिए विशेष व व्यापक इंतजाम किए गए हैं, जिसके लिए उड़ानें 18 अगस्त से शुरू होंगी। सभी उपायुक्तों ने अपने नोडल अधिकारी नामित किए हैं, जो 18 अगस्त से हाजियों की सुविधा के लिए हवाईअड्डे पर तैनात होंगे। हाजियों की सुविधा के लिए हाजी हाउस व हवाईअड्डों पर स्पेशल हेल्पलाइन डेस्क की स्थापना की गई है।
– सरकार ने जरूरी सामानों का पर्याप्त मात्रा में भंडारण किया है।
– प्राथमिक, द्वितीयक व तृतीयक स्तर के सभी स्वास्थ्य संस्थान पूरी तरह से चिकित्सकों व पैरा मेडिकल स्टाफ के साथ काम कर रहे हैं। मेडिकल स्टाफ के पहचानपत्र का इस्तेमाल मूवमेंट पास के तौर पर किया जा रहा है।
– विमान अपने निर्धारित कार्यक्रम के अनुसार उड़ रहे हैं और एयर टिकट को आवागमन पास के रूप में माना जा रहा है।
– हर महत्वपूर्ण जगहों पर मैजिस्ट्रेट की तैनाती की गई है, जिससे आम जनता को सहजता हो।
– 24 घंटे सातों दिन बिजली आपूर्ति सुनिश्चित करते के लिए ब्रेकडाउन को तुरंत बहाल करने के लिए पर्याप्त कर्मचारियों को तैनात किया गया है।
– जल आपूर्ति सुनिश्चित करने के लिए पंपिंग स्टेशनों पर कर्मचारियों को तैनात किया गया है।
– ईद की तैयारियों के लिए सभी प्रोविजन/बेकरी/ मिठाई/पोल्ट्री/मटन की दुकानें खुली रहेंगी और लोगों की मांगों को पूरा करेंगी।
सीआरपीएफ ने ‘मददगार’ हेल्पलाइन के लिए नया नंबर जारी किया
सीआरपीएफ हेल्पलाइन ने रविवार को लोगों के लिए नया नंबर जारी किया। यह नंबर खासकर कश्मीर के उन लोगों के लिए है, जिन्हें अपने परिवार के लिए मदद चाहिए या जम्मू-कश्मीर से अनुच्छेद 370 के प्रावधानों को खत्म किए जाने के बाद जो मुश्किल में हैं।
‘मददगार’ हेल्पलाइन ने ट्विटर पर एक संदेश जारी करते हुए कहा कि लोग उसके मोबाइल नंबर 9469793260 पर ‘किसी भी तरह के सहयोग या जानकारी’ के लिए कॉल कर सकते हैं। अधिकारियों ने बताया कि कश्मीर घाटी में कर्फ्यू के कारण इसका आधिकारिक नंबर 14111 काम नहीं कर रहा है। ट्विटर पर जारी संदेश में यह भी कहा गया कि इसके आधिकारिक हैंडल सीआरपीएफ मददगार पर भी सहयोग मांगा जा सकता है।
एक वरिष्ठ अधिकारी ने बताया कि जम्मू-कश्मीर और लद्दाख के विभिन्न हिस्सों की स्थिति के बारे में जानकारी हासिल करने के लिए काफी संख्या में लोग हेल्पलाइन पर फोन कर रहे हैं। हेल्पलाइन उन्हें सभी मौजूदा सूचनाओं के साथ सहयोग कर रहा है और चूंकि पुराने नंबर 14111 में समस्या आ रही है इसलिए नया नंबर जारी किया गया है।
-एजेंसियां

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Translate »