भारत में 5G टेक्नोलॉजी के खिलाफ अदालत पहुंची जूही चावला

मुंबई। लंबे समय से मोबाइल टावरों से निकलने वाले हानिकारक रेडिएशन के खिलाफ लोगों में जागरुकता फैला रहीं एक्ट्रेस जूही चावला ने अब भारत में 5G टेक्नोलॉजी के लागू किए जाने के खिलाफ अब अदालत की शरण में चली गई हैं। एक्ट्रेस ने 5G टेक्नोलॉजी को लागू करने के खिलाफ दिल्‍ली हाई कोर्ट में याचिका दायर की है।
इसके बारे में जूही चावला ने हमारे कहा, ‘अब तकनीकी एडवांसमेंट को लागू किए जाने के खिलाफ नहीं हैं बल्कि इसके उलट हम तो टेक्नोलॉजी की दुनिया से निकलने वाले लेटेस्ट प्रोडक्ट्स को यूज करते हैं और उनका लुत्फ उठाते हैं। इसमें वायरलेस कम्युनिकेशन भी शामिल है लेकिन इन प्रोडक्ट्स को इस्तेमाल करते वक्त हम हमेशा उधेड़बुन में रहते हैं क्योंकि वायरलेस गैजेट्स और मोबाइल टावरों से निकलने वाले RF रेडिएशन के बारे में रिसर्च और स्टडी करने के बाद हमारे पास यह मानने के लिए पर्याप्त कारण हैं रेडिएशन लोगों के स्वास्थ्य और सुरक्षा के लिए बहुत ही खतरनाक है।’
जूही चावला ने याचिका में कही यह बात
वहीं जूही चावला की ओर से दायर की गई याचिका को लेकर एक्ट्रेस के प्रवक्ता ने कहा, ‘भारत में 5G टेक्नोलॉजी को लागू किये जाने से पहले RF रेडिएशन से मानव जाति, महिला, पुरुषों, बच्चों, शिशुओं, जानवरों, जीव-जंतुओं, वनस्पतियों और पर्यावरण पर पड़नेवाले प्रभावों को लेकर बारीकी से पढ़ा जाए और ध्यान जाए। यह स्पष्ट किया जाए कि 5G टेक्नोलॉजी भारत की मौजूदा और आने वाली पीढ़ी के लिए सुरक्षित या नहीं?’
2018 में महाराष्ट्र के तत्कालीन सीएम को लिखी थी चिट्ठी
बता दें कि कई सालों के 5G टेक्नोलॉजी को लेकर जागरुकता अभियान चला रहीं जूही चावला साल 2018 में महाराष्ट्र के तत्कालीन मुख्यमंत्री देवेंद्र फड़नवीस को चिट्ठी लिखी थी, जिसमें उन्होंने मोबाइल टावर और वाईफाई हॉटस्पॉट से निकलने वाले रेडिएशन से लोगों के स्वास्थ्य के साथ-साथ पर्यावरण को होने वाले नुकसान के बारे में आगाह किया था। तब उन्होंने कहा था कि सरकार डिजिटल इंडिया का लक्ष्य हासिल करने के लिए आंखें मूंदकर 5G टेक्नोलॉजी लागू कर रही है।
-एजेंसियां

50% LikesVS
50% Dislikes

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *