कुंभ में सभी जातियों के युवाओं को एक ही थाली में भोजन कराएगा Juna akhada

प्रयागराज। प्रयागराज में इस बार का कुंभ अपनी अनोखी पहलों के लिए जाना जाएगा, चाहे वह किन्‍नर अखाड़े की मौजूदगी  हो या  Juna akhada द्वारा सभी जातियों की दूरी मिटाने को की अमल में लाई जाने वाली योजना, कुलमिलाकर सनातन परंपराओं व संस्‍कृति की एकजुटता को प्रदर्शित करेंंगी ये सभी पहल।

अखाड़ों में सबसे बड़ा है Juna akhada और इसी जूना अखाड़े की योजना है कि ऐन मकरसंक्रांति के दिन प्रथम शाही स्‍नान के ठीक बाद ही ब्राह्मण, क्षत्रिय, वैश्य और वाल्मीकि सभी को एक ही थाली में भोजन कराया जाएगा।

Juna akhada की ओर से कुल 11 थालियां में अलग-अलग जातियों के 21 युवाओं को भोजन कराया जाएगा। इसमें जातियों के हिसाब से जो संख्या निर्धारित की गई है, उसमें पांच वाल्मीकि, छह रविदास, दो ब्राह्मण, दो वैश्य, दो क्षत्रिय, दो खत्री और दो अन्य को शामिल किया जाएगा।

जूना अखाड़े का मानना है कि यह सभी जातियां सनातन संस्कृति का हिस्सा हैं, परंतु इनके आपसी अहंकार के चलते देश की एकजुटता पर खतरा मंडराता रहता है, परिणामस्‍वरूप इसका फायदा दूसरी शक्तियां उठा रही हैं, जिससे सनातन संस्कृति को भी खतरा होने लगा है।

इस खतरे को भांपते हुए सभी को एक धड़े में इकट्ठा किया जा रहा है। अखाड़े का कहना है कि सभी को जोड़कर सनातन संस्कृति की रक्षा ही कुंभ जैसे पावन पर्व का उद्देश्य है। जूना अखाड़े के महामंडलेश्वर जगद्गुरु पंचानंद गिरी ने बताया कि अखाड़े संस्कृति के संवाहक हैं, इसलिए उनकी रक्षा करना भी उन्हीं का कर्तव्य है। इसी वजह से जूना अखाड़ा नई मुहिम शुरू कर रहा है जिसका पूरे विश्व मे प्रचार-प्रसार किया जाएगा। यह उन देशों पर भी तमाचा है जो भारत की सनातन संस्कृति को तोड़ने की साजिश कर रहे हैं।

जूूना अखाड़े ने वाल्मीकि समाज के कन्हैया को बनाया महामंडलेश्वर

जूूना अखाड़े ने आजमगढ़ निवासी कन्हैया को अखाड़े का महामंडलेश्वर बनाया है। कन्हैया वाल्मीकि समाज से हैं। अखाड़े ने उन्हें बिना किसी संकोच के अपने साथ जोड़ा। जूना अखाड़ा के संरक्षक और अखाड़ा परिषद के महामंत्री श्रीमहंत हरि गिरी का कहना है कि जूना अखाड़ा ने सनातन संस्कृति की रक्षा के लिए उदाहरण पेश किया है। शिवानंद गिरी को पहले शिव गिरि नाम दिया गया था। इस बार कुंभ में उनका अभिषेक किए जाने के बाद उनको स्वामी शिवानंद गिरी नाम दिया गया है।

शंकराचार्य ट्रस्ट बंगलौर की ओर से सभी जातियों को जोड़ने के लिए फरवरी में होगा मंथन

शंकराचार्य ट्रस्ट बंगलौर की तरफ से कुंभ में 2 से 4 फरवरी के बीच सनातन मंथन का आयोजन किया जाएगा। इस आयोजन का मुख्य उद्देश्य जातियों के बीच दूरी मिटाना है। शंकराचार्य ट्रस्ट के अध्यक्ष स्वामी आनंद स्वरूप ने बताया कि इस कार्यक्रम में देश भर के संत, विद्वान, वैज्ञानिक आमंत्रित किए गए हैं। समापन के दिन प्रदेश और केंद्र सरकार के मंत्रियों को भी बुलाया जाएगा, ताकि यह संदेश एक साथ सभी तक पहुंचे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Translate »