जापानी Emperor Akihito 30 अप्रैल 2019 को छोड़ेंगे पद

टोक्यो। लगभग तीन दशकों से जापान के सिंहासन पर बैठे Emperor Akihito 30 अप्रैल 2019 को अपने पद से त्यागपत्र दे देंगे। पिछली दो शताब्दियों में यह पहली बार होगा जब कोई जापानी सम्राट अपने पद से त्यागपत्र देगा।

अपने कार्यकाल के दौरान सम्राट अकीहितो ने द्वितीय विश्व युद्ध के घावों पर मरहम लगाने का प्रयास किया है। साल 2019 तक जापान को नया सम्राट मिलने वाला है, क्योंकि मौजूदा सम्राट अकीहितो गद्दी छोड़ने वाले हैं। प्रधानमंत्री शिंजो आबे की अध्यक्षता वाली 10 सदस्यीय इंपीरियल हाउसहोल्ड काउंसिल की आज हुयी एक बैठक में इस पर सर्वसम्मति से निर्णय लिया गया। काउंसिल में सांसदों और राज परिवार के सदस्यों के अलावा सुप्रीम कोर्ट के न्यायाधीश भी शामिल हैं।

शुक्रवार को प्रधानमंत्री शिंजो आबे ने इसका ऐलान किया है। प्रधानमंत्री शिंजो आबे ने कहा है कि Emperor Akihito 30 अप्रैल, 2019 तक गद्दी छोड़ देंगे। अकीहितो के बाद उनके बड़े बेटे 57 साल के क्राउन प्रिंस नरुहितो सम्राट बन सकते हैं।

पिछले दिनों सम्राट अकीहितो ने खराब होती सेहत के कारण अपनी जिम्मेदारियां संभालने में आ रही दिक्कतों का हवाला देते हुए गद्दी छोड़ने की ओर इशारा किया था। उन्होंने कहा था कि मुझे चिंता है कि जिस तरह मैं अब तक राज्य के प्रमुख के तौर पर अपने फर्ज निभाता आया हूं, उन्हें आगे जारी रखना मेरे लिए मुश्किल हो जाएगा। 82 साल के सम्राट ने आगे कहा था, “कई बार मुझे अपनी सेहत के कारण बाध्यता महसूस होती है।”
जापान के प्रधानमंत्री शिंजो आबे ने सम्राट के इस संदेश पर प्रतिक्रिया देते हुए कहा था कि सरकार उनकी टिप्पणी को ‘गंभीरता’ से लेगी। आबे ने कहा था, सम्राट पर जिम्मेदारियों के बोझ और उनकी उम्र को देखते हुए हम देखेंगे कि क्या किया जा सकता है।

जानकारी के अनुसार बता दें कि Emperor Akihito के पदत्याग की घोषणा के बाद जापान में एक नई कानूनी प्रक्रिया की शुरुआत होगी।जापान के राजपरिवार को दुनिया की सबसे पुरानी आनुवंशिक राजशाही माना जाता है।

जापानी मान्यताओं के अनुसार, वे पिछले करीब 2,600 सालों से निरंतर चले आ रहे शाही परिवार के शासन को मानते हैं।

Emperor Akihito के पिता के समय हुए युद्ध के बाद से देश के भीतर और विदेशों से संबंध सुधारने में उनकी महत्वपूर्ण भूमिका मानी जाती है, घरेलू मोर्चे पर युद्धग्रस्त ओकिनावा, सायपान, पलाऊ इलाके और विदेशी मोर्चे पर फिलिपींस के सात लड़ाई में मारे गए लोगों की आत्मा की शांति के लिए की गईं उनकी प्रार्थना सभाओं से कइयों के घाव भरने में मदद मिली थी।

Emperor Akihito ने 1989 से जापान के राष्ट्र प्रमुख हैं।
-एजेंसी